************************************* QR code of mobile preview of your blog Page copy protected    against web site content infringement by CopyscapeCreative Commons License
-------------------------

Subscribe to Hindi-Bharat by Email

आवागमन/उपस्थिति


View My Stats

पाप वृत्ति का उन्मूलन







पाप वृत्ति का उन्मूलन


पापमयी वृत्ति के उन्मूलन के लिए प्रार्थना : ऋग्वेद से



ऋ1/97 ध्रुव पंक्ति
..... अप न:शोशुचदधम्




ओम् अप न: शोशुचदमग्ने शुशुग्ध्यारयिम् !
अप न: शोशुचदधम् !! 
ऋ/1/97/1

हे प्रभु! हमारे आलस्यरूपी रोग बार बार यज्ञाग्नि मे दग्ध हों. अच्छे प्रकार के शुद्ध धन का प्रकाश कराइये.




सुक्षेत्रिया सुगातुया वसूया च यहामहे !
अप न: शोशुचदधम् !!
ऋ1/97/2

उत्तम देश मे रहने की इच्छा, चलने के लिए उत्तम मार्ग की इच्छा, उत्तम धन प्राप्त करने की इच्छा से हम प्रेरित हैं. हमारी शत्रु जन्य दु:ख रूप पाप वृत्तियाँ यज्ञाग्नि मे दग्ध हों.



प्र यद् भन्दिष्ठ एषां प्रास्माकासश्च सूरय: !
अप न: शोशुच्दधम् !!

ऋ1/97/3

साधारण प्रजाजनों मे उत्तम बुद्धि वाले, अधिक प्रयास करने वाले सब से आगे निकल जाते हैं, उस प्रकार के साधनों को प्राप्त कराने के लिए, हमारी शत्रु जन्य दु:ख रूप पाप वृत्तियाँ यज्ञाग्नि मे दग्ध हों.



प्र यत्ते अग्ने सूरयो जायेमहि प्र ते वयम् !
अप न: शोशुचदधम् !!
ऋ1/97/4
उत्तम बुद्धि से प्रेरित हम आगे भी ऐसी संतान को उत्पन्न करें (जो उन्नति के मार्ग पर चलती रहे ), इस लिए हमारी शत्रु जन्य दु:ख रूप पाप वृत्तियाँ यज्ञाग्नि मे दग्ध हों.



प्र यदग्ने सहस्वतो विश्वतो यंति भानव: !
अप न: शोशुचदधम् !! 
ऋ1/97/5
हमारा तेज भी इस अग्नि की भांति चारों ओर प्रकाशमान हो. इस लिए हमारी शत्रु जन्य दु:ख रूप पाप वृत्तियाँ यज्ञाग्नि मे दग्ध हों.



त्वं हि विश्वतोमुख विश्वत: परिभूरसि !
अप न: शोशुचदधम्!!
ऋ1/97/6
सब ओर से विराजमान आप द्वारा प्रदत्त सद्बुद्धि का प्रकाश अंतर्मुखि भी हो ,इस लिए हमारी शत्रु जन्य दु:ख रूप पाप वृत्तियां यज्ञाग्नि मे दग्ध हों.


द्विषोनो विश्वतोमुखाति नावेव पारय !

अप न: शोशुचदधम् !!

 ऋ1/97/7
हे अन्तर्यामी! हमारी जीवन नौका को शत्रुओं के पार ले जावो. इस लिए हमारी शत्रु जन्य दु:ख रूप पाप वृत्तियाँ यज्ञाग्नि मे दग्ध हों.


स न: सिन्धुमिव नावयाति पर्षा स्वस्तये !
अप न: शोशुचदधम् !!
ऋ1/97/8
हमारे कल्याण के लिए हमे दुर्गति से पार ले जावो. इस लिए हमारी शत्रु जन्य दु:ख रूप पाप वृत्तियाँ यज्ञाग्नि मे दग्ध हों.

  -   सुबोध कुमार 


**************************
पाप वृत्ति का उन्मूलन पाप वृत्ति का उन्मूलन Reviewed by Kavita Vachaknavee on Friday, August 06, 2010 Rating: 5

5 comments:

  1. बहुत सुन्दर सरगार्वित प्रस्तुति....आभार

    ReplyDelete
  2. इसका तो ज्ञान ही नहीं था ...और जानना बहुत आवश्यक था :-)
    सादर

    ReplyDelete
  3. "पाप वृत्तियाँ सभी शत्रु हैं,यज्ञ अग्नि में जल जाएँ
    तपोपूत पावन इच्छाएँ ,संध्यादीप सी बल जाएँ"

    ReplyDelete
  4. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Powered by Blogger.