************************************* QR code of mobile preview of your blog Page copy protected    against web site content infringement by CopyscapeCreative Commons License
-------------------------

Subscribe to Hindi-Bharat by Email

आवागमन/उपस्थिति


View My Stats

लक्ष्मी का वाहन उल्लू क्यों



लक्ष्मी का वाहन उल्लू क्यों
विश्वमोहन तिवारी, एयर वाइस मार्शल, से. नि.   



पुराणों में वर्णित विभिन्न देवी देवताओं के अपने अपने निश्चित वाहन हैं, यथा लक्ष्मी का वाहन उल्लू,  कार्तिकेय का  मयूर, सरस्वती का हंस, गणेश जी का वाहन चूहा इत्यादि। यह विचित्र लगते हैं यह तो निश्चित है कि ये वाहन प्रतीक हैं, यथार्थ नहीं। हाथी के सिर वाले, लम्बोदर गणेश जी चूहे पर वास्तव में सवारी तो नहीं कर सकते, या लक्ष्मी देवी उल्लू जैसे छोटे पक्षी पर। जब मैंने इन प्रतीकों पर वैज्ञानिक सोच के साथ शोध किया तब मुझे सुखद आश्चर्य पर सुखद आश्चर्य हुए। मैंने इन पर जो लेख लिखे और व्याख्यान दिये वे बहुत लोकप्रिय रहे। इन लेखों को रोचक बनाना भी अनिवार्य है। किन्तु उनके पौराणिक होने का लाभ यह है कि, उदाहरणार्थ, इस प्रश्न पर कि ‘लक्ष्मी का वाहन उल्लू क्यों ?’, पाठकों तथा श्रोताओं में जिज्ञासा एकदम जाग उठती है।


इन सारे वाहनों के वैज्ञानिक कारणों का विस्तृत वर्णन तो इस प्रपत्र में उचित नहीं। किन्तु अपनी अवधारणा को सिद्ध करने के लिये उदाहरण स्वरूप लक्ष्मी के वाहन उल्लू का संक्षिप्त वर्णन उचित होगा। यह उल्लू के लक्ष्मी जी के वाहन होने की संकल्पना कृषि युग की है। वैसे यह आज भी सत्य है कि किसान अनाज की खेती कर ‘धन’ पैदा करता है। किसान के दो प्रमुख शत्रु हैं कीड़े और चूहे। कीड़ों का सफाया तो सभी पक्षी करते रहते हैं और उन पर नियंत्रण रखते हैं, जो इसके लिये सर्वोत्तम तरीका है। किन्तु चूहों का शिकार बहुत कम पक्षी कर पाते हैं। एक तो इसलिये कि वे काले रंग के होते हैं जो सरलता पूर्वक नहीं दिखते। साथ ही वे बहुत चपल, चौकस और चतुर होते हैं। इसलिये मुख्यतया बाज वंश के पक्षी और साँप इत्यादि इनके शिकार में कुछ हद तक सफल हो पाते हैं। दूसरे, चूहे अपनी सुरक्षा बढ़ाने के लिये रात्रि में फसलों पर, अनाज पर आक्रमण करते हैं और तब बाज तथा साँप आदि भी इनका शिकार नहीं कर सकते। एक मात्र उल्लू कुल के पक्षी ही रात्रि में इनका शिकार कर सकते हैं।


जो कार्य बाज जैसे सशक्त पक्षी नहीं कर सकते, उल्लू किस तरह करते हैं? सबसे पहले तो रात्रि के अंधकार में काले चूहों का शिकार करने के लिये आँखों का अधिक संवेदनशील होना आवश्यक है। सभी स्तनपायी प्राणियों तथा पक्षियों में उल्लू की आँखें उसके शरीर की तुलना में बहुत बड़ी हैं, वरन इतनी बड़ी हैं कि वह आँखों को अपने कोटर में घुमा भी नहीं सकता जैसा कि अन्य सभी पक्षी कर सकते हैं। अब न घुमा सकने वाली कमजोरी को दूर करने के लिये वह अपनी गर्दन तेजी से तथा पूरे पीछे तक घुमा सकता है।


दूसरी योग्यता, जाति पक्षी के लिये और भी कठिन है। जब उल्लू या कोई भी पक्षी चूहे पर आक्रमण करते हैं, तब उनके उड़ान की फड़फड़ाहट को सुनकर चूहे चपलता से भाग कर छिप जाते हैं। इसलिये बाज भी चूहों का शिकार अपेक्षाकृत खुले स्थानों में कर सकते हैं ताकि वे भागते हुए चूहों को भी पकड़ सकें। किन्तु चूहे अधिकांशतया खुले स्थानों के बजाय लहलहाते खेतों या झाड़ियों में छिपकर अपना आहार खोजते हैं, और वह भी रात में। वहाँ यदि चूहे ने शिकारी पक्षी की फड़फड़ाहट सुन ली तो वे तुरन्त कहीं भी छिप जाते हैं। उल्लू की दूसरी अद्वितीय योग्यता है कि उसके उड़ते समय फड़फड़ाहट की आवाज नहीं आती। यह क्षमता उसके पंखों के अस्तरों के नरम रोमों की बनावट के कारण आती है।


उल्लू को तीसरी आवश्यकता होती है तेज उड़ान की क्षमता के साथ धीमी उड़ान की भी। यह तो हम विमानों के संसार में भी हमेशा देखते हैं कि तेज उड़ान वाले विमान की धीमी गति भी कम तेज उड़ने वाले विमान की धीमी गति से तेज होती है। तेज उड़ान की आवश्यकता तो उल्लू को अपने बचाव के लिये तथा ऊपर से एक बार चूहे को ‘देखने’ पर तेजी से चूहे तक पहुँचने के लिये होती है। तथा झाड़ियों आदि के पास पहुँच कर धीमी उड़ान की आवश्यकता इसलिए होती है कि वह उस घिरे स्थान में चपल चूहे को बदलती दिशाओं में भागने के बावजूद पकड़ सके। यह योग्यता भी अपने विशेष नरम परों के कारण उल्लू में है, बाज पक्षियों में नहीं।


यदि चूहा अधिकांशतया लहलहाते खेतो में या झाड़ियों में छिपते हुए अपना कार्य करता है तब उड़ते हुए पक्षी द्वारा उसे देखना तो दुर्लभ ही होगा। चूहे आपस में चूँ चूँ करते हुए एक दूसरे से सम्पर्क रखते हैं। क्या यह महीन तथा धीमी चूँ चूँ कोई पक्षी सुन सकता है? उल्लू न केवल सुन सकता है वरन सबसे अधिक संवेदनशीलता से सुन सकता है। चूहे की चूँ चूँ की प्रमुख ध्वनि–आवृत्ति 8000 हर्ट्ज़ के आसपास होती है, और उल्लू के कानों की श्रवण शक्ति 8000 हर्ट्ज़ के आसपास अधिकतम संवेदनशील होती है! साथ ही इस ऊँची आवाज का लाभ उल्लू को  यह मिलता है कि वह उस आवाज को सुनकर अधिक परिशुद्धता से उसकी दिशा का निर्धारण कर सकता है। यह हुई उल्लू की चौथी अद्वितीयता। उल्लू में एक और गुण है जो उसके काम में आता है, यद्यपि वह अद्वितीय नहीं। चूँकि उसे शीत ऋतु की रातों में भी उड़ना पड़ता है, उसके अस्तर के रोएँ उसे भयंकर शीत से बचाने में सक्षम है।यह उसकी पाँचवीं अद्वितीयता है।


उल्लू की छठवीं अद्वितीयता है उसकी छोटी चोँच। यह कैसे? चोँच हड्डियों के समान भारी होती है।


इस सब गुणों के बल पर इस पृथ्वी पर चूहों का सर्वाधिक सफल शिकार उल्लू ही करते हैं। और चूहे किसानों के अनाज का सर्वाधिक नुकसान कर सकते हैं। इसलिये उल्लू किसानों के अनाज में वृद्धि करते हैं, अर्थात वे उसके घर में लक्ष्मी लाते हैं, अर्थात लक्ष्मी का वाहन उल्लू है। इसकी उपरोक्त चार योग्यताओं के अतिरिक्त, जो कि वैज्ञानिक विश्लेषण से समझ में आई हैं, लक्ष्मी का एक सामाजिक गुण भी है, जिसके फलस्वरूप उल्लू लक्ष्मी का वाहन बन सका है। किसी व्यक्ति के पास कब अचानक लक्ष्मी आ जाएगी और कब चली जाएगी, कोई नहीं जानता – प्रेम जी अचानक कुछ महीने भारत के सर्वाधिक धनवान व्यक्ति रहे, और अचानक ‘साफ्टवेअर’ उद्योग ढीला पड़ने के कारण वे नीचे गिर गये। चूँकि उल्लू के उड़ने की आहट भी नहीं आती, अतएव लक्ष्मी उस पर सवार होकर कब आ जाएँगी या चली जाएँगी, पता नहीं चलता।


यद्यपि हमारे ऋषियों के पास वैज्ञानिक उपकरण नहीं थे, तथापि उनकी अवलोकन दृष्टि, विश्लेषण करने और संश्लेषण करने की शक्ति तीव्र थी। उल्लू को श्री लक्ष्मी का वाहन बनाना यह सब हमारे ऋषियों की तीक्ष्ण अवलोकन दृष्टि, घटनाओं को समझने की वैज्ञानिक दृष्टि और सामाजिक–हित की भावना दर्शाता है। आमतौर पर उल्लू को लोग निशाचर मानते हैं, उसकी आवाज को अपशकुन मानते हैं, उसे खंडहर बनाने वाला मानते हैं। इसलिये आम लोगों के मन में उल्लू के प्रति सहानुभूति तथा प्रेम न होकर घृणा ही रहती है। इस दुर्भावना को ठीक करने के लिये भी उल्लू को लक्ष्मी का वाहन बनाया गया। और यह उदाहरण कोई एक अकेला उदाहरण नहीं है। सरस्वती का वाहन हंस, कार्तिकेय का वाहन मयूर, गणेश जी का वाहन चूहा भी वैज्ञानिक दृष्टि से अत्यंत समाजोपयोगी संकल्पनाएँ हैं। इन अवधारणाओं का प्रचार अत्यंत सीमित होता यदि इन्हें पुराणों में रखकर धार्मिक रूप न दिया होता। इसलिए इस देश में उल्लू, मयूर, हंस, सारस, चकवा, नीलकंठ, तोता, सुपर्ण (गरूड़), मेंढक, गिद्ध आदि को, और भी वृक्षों को, जंगलों को इस तरह धार्मिक उपाख्यानों से जोड़कर, उनकी रक्षा अर्थात पर्यावरण की रक्षा हजारों वर्षों से की गई है। किन्तु अब अंग्रेजी की शिक्षा ने तो नहीं किन्तु अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा ने हमारी आज की पीढ़ी को इस सब ज्ञान से काट दिया है। और आज हम भी पाश्चात्य संसार की तरह प्रकृति का शोषण करने में लग गये हैं। तथा पर्यावरण एवं प्रकृति का संरक्षण जो हमारी संस्कृति में रचा बसा था उसे हम भूल गये हैं। यह संरक्षण की भावना, अब कुछ पाश्चात्य प्रकृति–प्रेमियों द्वारा वापिस लाई जा रही है। एक बात को स्पष्ट करना आवश्यक है कि इन प्रतीकों का वैज्ञानिक तथा सामाजिक के अतिरिक्त आध्यात्मिक अर्थ भी होता है।


निष्कर्ष यह है कि हमारी पुरानी संस्कृति में वैज्ञानिक सोच तथा समझ है, उसके तहत हम विज्ञान पढ़ते हुए आधुनिक बनकर ‘पोषणीय उन्नति’  (सस्टेनैबल प्रोग्रैस) कर सकते हैं। आवश्यकता है विज्ञान के प्रभावी संचार की जिस हेतु पुराणों के उपाख्यान एक उत्तम दिशा दे सकते हैं। और इस तरह हम मैकाले की शिक्षा नीति (फरवरी, 1835) – “ब्रिटिश शासन का महत् उद्देश्य (भारत में (उपनिवेशों में)) यूरोपीय साहित्य तथा विज्ञान का प्रचार–प्रसार करना होना चाहिये।”  के द्वारा व्यवहार में भ्रष्ट की गई अपनी उदात्त संस्कृति की पुनर्स्थापना कर सकते हैं। वे विज्ञान का प्रसार तो कम ही कर पाए यद्यपि अंग्रेजी का प्रचार–प्रसार करने में उन्होंने आशातीत सफलता पाई। हमारा उद्देश्य पाश्चात्यों की नकल करना छोड़कर, भारतीय भाषाओं में ही प्रौविज्ञान का प्रचार–प्रसार करना होना चाहिये और तभी वह अधिक सफल भी होगा। तभी हम प्रौविज्ञान के क्षेत्र में, वास्तव में, अपनी अनुसन्धान शक्ति से, विश्व के अग्रणी देशों में समादृत नाम स्थापित कर सकेंगे। तब हम और भी अधिक गर्व से कह सकेंगे कि हम हिन्दू हैं। वैसे यह भी आज के दिनों में कम गर्व की बात नहीं कि विश्व में केवल हिन्दू धर्म है जो पूर्णतः न सही किन्तु सर्वाधिक विज्ञान–संगत है।

लक्ष्मी का वाहन उल्लू क्यों लक्ष्मी का वाहन उल्लू क्यों Reviewed by Kavita Vachaknavee on Sunday, June 06, 2010 Rating: 5

7 comments:

  1. मगर उल्लू 'उल्लू ' कैसे बन गया ? आप को जवाब न सूझ पाए तो कविता जी भी आमंत्रित है इसके जवाब के लिए !

    ReplyDelete
  2. एक धार्मिक चीज को विज्ञान के नजरिये से पेश करने के लिये बधाई..

    ReplyDelete
  3. ग़ज़ब का विश्लेषण।

    ReplyDelete
  4. extremely wonderful thinking, the conclusion of this is very interesting and "SARTHAK"

    ReplyDelete
  5. अरविन्द मिश्र जी ने सार्थक प्रव्श्न किया है, प्रश्न गहरा भी है।
    फ़ारसी संस्कृति में उल्लू 'उल्लू' है अर्थात अपशकुन करने वाला, बरबाद करने वाला है । गौर कीजिये :
    चमन को बरबाद करने के लिये एक उल्लू काफ़ी है।
    इस चमन का क्या होगा, हर शाख पै उल्लू बैठा है।

    यह भी ठीक है कि उल्लू खण्डहरों तथा मरघटों पर अक्सर बैठे दिख जाते हैं। किन्तु इतने पर से उसे बरबाद करने वाला मानना तो बुद्धिमानी‌ नहीं होगी।
    गुलाम लोगों पर चाहे अनचाहे उनके मालिकों की सम्स्कृति हावी हो जाती है।
    हम लोग फ़ारसी बर्बरता के, तलवार के और फ़लस्वरूप उनकी संस्कृति के गुलाम रहे हैं।( यद्यपि उनमें से कुछ ने कला का विकास भी किया था; साथ ही यह भी सच है कि उस पूरे काल में भी हर समय भारत में कहीं न कहीं उनके विरोध में‌ युद्ध होते रहे हैं।)
    हमारी पाठशालाओं को तोडा गया शिक्षा के स्थान मंदिरों को ध्वस्त किया गया, ब्राह्मणों को विशेषकर मारा गया तब हमारे ज्ञान का मिलना भी कठिन हो गया था।
    पश्चिम की संस्कृति में भी उल्लू बुद्धिमान पक्षी माना गया है। भारत का तो मैने वर्णन कर ही दिया।
    अब समय आ गया है कि हम लक्ष्मी के वाहन चतुर्, बुद्धिमान तथा कुशल उल्लू को उसका सही स्थान दें।
    अरविन्द जी आप मुझे अब उल्लू कहेंगे तो मैं आपको धन्यवाद दूँगा।

    ReplyDelete
  6. यूनान में उल्लू बुद्धिमता का प्रतीक है ,भारत में भी कभी औलूक्य दर्शन का प्रभाव था .लेकिन लेखकों और रचनाकारों की दीर्घकालिक विपन्नता ने उन्हें लक्ष्मी के प्रति आक्रामक बनाया और एक "बौद्धिक षड्यंत्र " के तहत लक्ष्मी के वाहन में मूर्खता आरोपित कर दी गयी जो कालान्तर में इसी अर्थ में रूढ़ बन गयी ...प्रकारांतर से सरस्वती के वाहन हंस में नीर क्षीर विवेचन का गुण आरोपित किया ....यह सब करके रचनाकारों ने अपनी लम्बी आर्थिक दरिद्रता से उपजे क्षोभ और नैराश्य का प्रतिकार कर लिया -अपनी लक्ष्मी के प्रति और उनके वाहनों के प्रति भडास निकाल ली .....
    तिवारी जी मैं तो आपको उल्लू न मानूंगा -इसके लिए आपको उस लक्ष्मी (गृह लक्ष्मी नहीं ) का नाम पता बताना पड़ेगा जो आप पर कृपालु है ! बिना पूरी तरह आश्वस्त हुए यह उपाधि नहीं ....
    यहाँ भी देख लीजिए

    ReplyDelete
  7. You have a very good blog that the main thing a lot of interesting and beautiful! hope u go for this website to increase visitor.

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Powered by Blogger.