************************************* QR code of mobile preview of your blog Page copy protected    against web site content infringement by CopyscapeCreative Commons License
-------------------------

Subscribe to Hindi-Bharat by Email

आवागमन/उपस्थिति


View My Stats

अज्ञेय के स्वर में उनकी अमर रचना "असाध्य वीणा" का पाठ सुनें

अज्ञेय जी का जन्मदिवस ( ७ मार्च ) अभी अभी ही बीता है,
उनके स्वर में उनकी अमर रचना   "असाध्य वीणा"  को उनकी चित्रावली  के साथ चलते हुए सुनने का आनन्द लें -












अज्ञेय के स्वर में उनकी अमर रचना "असाध्य वीणा" का पाठ सुनें अज्ञेय के स्वर में उनकी अमर रचना "असाध्य वीणा" का पाठ सुनें Reviewed by Kavita Vachaknavee on Tuesday, March 09, 2010 Rating: 5

7 comments:

  1. aadarneey kavita ji,
    main is post ko padh bhi nahi paa raha hun aur na hi sun pa rahaa hun. kua kuchh download karna hoga-?
    anandkrishan, jabalpur
    mobile : 09425800818

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर! अज्ञेयजी की आवाज पहली बार सुन पाया आपके सौजन्य से।

    आपका आभार इसे सुनवाने के लिये।

    ReplyDelete
  3. आनन्द जी, पढ़ने के लिए तो आपको पोस्ट के शीर्षक को क्लिक करना होगा, वैसे इस पोस्ट में पढ़ने के लिए तो २-३ वाक्य मात्र हैं, हाँ ३ वीडियो अवश्य हैं जो देखने व सुनने के लिए हैं.
    आप को प्रत्येक वीडियो के नीचे बाईं ओर बने ऐरो को क्लिक कर उसे प्ले करना होगा। दाईं ओर वोल्यूम का चिह्न होता है, उसे एडजस्ट कर सुनें।

    /

    सुनाई देने के लिए आवश्यक है कि आपके सिस्टम के साथ स्पीकर्ज़ अथवा हेडफ़ोन का प्रावधान हो। यदि लैपटॉप है तो उसमें बिल्ट-इन स्पीकर होता है.साथ ही सिस्टम में वोल्यूम आदि को समझना होगा।

    ReplyDelete
  4. Agyey ji jaisi mahan aatma ki awaz sunwane ke liye aapka aabhar..
    Kavita ma'am 1 April ko London aa raha hoon 2-3 din ke liye.. ummeed hai aapse milna bhi ho jayega. sambhav ho to 07515474909 par call karen ya mashal.com@gmail.com par apna no. de diziyega..

    ReplyDelete
  5. अज्ञेय जी की शताब्दी के अवसर पर उन्हें इस प्रकार स्मरण करना अच्छा लगा.

    ReplyDelete
  6. Dear ma'am
    It is really great to listen to Agyey ji.
    Thanks.
    Aparna

    ReplyDelete
  7. अज्ञेय जी के स्वर में असाध्य वीणा का पाठ सुनना एक दुर्लभ अनुभव है मेरे लिए !
    पूरी नई पीढ़ी के लिए अमूल्य संजो कर रखने वाली धरोहर है यह ! आभार ।

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Powered by Blogger.