************************************* QR code of mobile preview of your blog Page copy protected    against web site content infringement by CopyscapeCreative Commons License
-------------------------

Subscribe to Hindi-Bharat by Email

आवागमन/उपस्थिति


View My Stats

प्रभाष जी के आत्मा को भगवान कभी शांति नहीं दे।








 प्रभाष जी के आत्मा को भगवान कभी शांति नहीं दे



आलोक तोमर
प्रभाष जोशी चले गए। उनकी अस्थियाँ भी उस नर्मदा में विसर्जित हो गई जिस वे हमेशा माँ कहते थे और अक्सर नर्मदा को याद कर के इतने भावुक हो जाते थे कि गला भर आता था। इन दिनों हमारे प्रभाष जी को ले कर संवेदनाओं के

लेख, संस्मरण और शोक सभाओं का दौर चल रहा है। वे लोग जो कुछ दिन पहले तक इंटरनेट पर प्रभाष जी को इस युग का सबसे पतित, मनुवादी और ब्राह्मणवादी पत्रकार करार दे रहे थे, उनकी बोलती बंद है। उनमें से कई तो उनके निधन पर घड़ियाली आँसू भी बहाते दिखे।



लेकिन अब वक्त प्रभाष जी को याद करने से ज्यादा उनके सरोकारो को याद करने का है। तिहत्तर साल की उम्र में भी जिन सरोकारो को ले कर प्रभाष जी देश के हर कोने तक हर किस्म के वाहन से और होटलों से ले कर लोगों के घरों में ठहर कर पत्रकारिता के कायाकल्प और उसमें आ गए दोषों से कलंक मुक्ति की अलख जगा रहे थे, उनके इसी सरोकार को जारी रखना और आगे बढ़ाना शायद प्रभाष जी को सबसे बड़ी श्रध्दांजलि होगी। पता नहीं आज जो लोग आँसू बहा रहे हैं वे इस सरोकार को सहेजने में कितनी रुचि दिखाएँगे। सरोकार रोटी और शराब का पैसा नहीं देता। उसके लिए तो प्रभाष जी जैसा कलेजा चाहिए और एक सक्रिय और तेजस्वी वैराग्य चाहिए।


प्रभाष जी पत्रकारिता के नाम पर हो रही धंधेबाजी के खिलाफ जूझ रहे थे। वे समाज की हर बुराई और हर अन्याय के खिलाफ लड़ रहे थे। इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रों के साथ भी वे खड़े थे और बंगाल के नंदीग्राम के ग्रामीणों के साथ भी शामिल थे। हमारे मित्र और विश्वविख्यात कृषि विशेषज्ञ देवेंद्र शर्मा बता रहे थे कि चंडीगढ़ में एक्सप्रेस के संपादक रहने के दौरान उन्होंने एक सवाल किया था कि जिस देश में 70 प्रतिशत लोग खेती पर आधारित हो वहां गंभीर कृषि पत्रकारिता क्यों नहीं हो सकती? देवेंद्र शर्मा कृषि वैज्ञानिक बनने के रास्ते पर थे मगर कृषि पत्रकार बन गए और इन दिनों उन्हीं से पता लगा कि विदेशी बीजों और मल्टीनेशनल खेती के अलावा किसानों पर कर्जे के खिलाफ भी प्रभाष जी की जंग जारी थी।


प्रभाष जी के बेटे संदीप ने उनके अंतिम क्षणों का वर्णन किया है। सचिन के आउट होते ही वे टीवी वाले कमरे से उठ कर चले गए थे और संदीप जो खुद भी रणजी और कांउटी तक खेल चुके थे, ने पिता को फोन किया तो आखिरी सवाल था कि क्या स्कोर हुआ है? इसके बाद फोन माँ ने लिया और कहा कि बेटा जल्दी आओ, पिता जी बेहोश हो गए। सो प्रभाष जी के अंतिम शब्द थे- 'क्या स्कोर हुआ है'।



क्रिकेट की भाषा में ही कहे तो प्रभाष जी ने अपने आपको हिट विकेट कर दिया। उम्र हो चली थी। पच्चीस साल से शुगर के मरीज थे। एक बाई पास सर्जरी हो चुकी थी। पेस मेकर लगा हुआ था। फिर भी अगर किसी से मिलना है तो मिलना है। तीन मंजिल चढ़ के चले जाएँगे। प्रभाष जी जैसा न कोई हुआ है, न कोई होगा क्योंकि जैसा कि पहले और हमेशा कहा कि प्रभाष जोशी बनने के लिए कलेजा चाहिए। जिस समय प्रभाष जी का जनसत्ता अपने चरम पर था और विज्ञापन देने वालों की और पैसा दे कर खबर छपवानों वालों की लाइन लगी होती थी, प्रभाष जी ने जनसत्ता को घाटे में चलने दिया लेकिन वे सौदे नहीं किए जिनके खिलाफ वे आखिर तक लड़ रहे थे। इंडियन एक्सप्रेस के एक्सप्रेस टॉवर्स की किराएदार न्यू बैंक ऑफ इंडिया के घपलों को बैंक के निपट जाने तक उजागर करने का पूरा मौका दिया और इसके बावजूद दिया कि उनके खास मित्र और बड़े वकील लक्ष्मी मल्ल सिंघवी रामनाथ गोयनका तक पहुँच गए थे। इसके अलावा अखबार को साल में करोड़ों का विज्ञापन देने वाले मारुति उद्योग समूह के मुखिया के खिलाफ अभियान चलाया, विज्ञापन बंद हो गए मगर उन्हें परवाह नहीं थी।


बाजार के कुछ नियम होते हैं मगर पत्रकारिता की एक पूरी आचार संहिता होती है। प्रभाष जी ने इस आचार संहिता को वास्तविकता बनाने के लिए कई मोर्चे खोल रखे थे। इतना ही नहीं एक मोर्चा हिंद स्वराज का भी था। प्रभाष जी भारत की पत्रकारिता को आजादी का मंत्र देने वाले रामनाथ गोयनका की एक प्रमाणिक जीवनी लिखना चाहते थे और एक किताब आजादी के बाद की राजनीति पर लिखना चाहते थे और यह सब दो साल में यानी 75 का आंकड़ा पार करने के पहले कर लेना चाहते थे। मगर काल ने मौका ही नहीं दिया।


प्रभाष जोशी को याद करना असल में उन कामनाओं को पूरा करना होगा जिनमें से एक भी खुद उनके लिए नहीं थी। वे एक मुक्त और ताकतवर समाज चाहते थे। ऐसा समाज बने और वही प्रभाष जी को याद करे, इससे बड़ी श्रध्दांजलि दूसरी नहीं हो सकती। मगर दिक्कत यह है कि आज अखबार चलाने के साथ शराब की फैक्ट्रियाँ और दूसरे कारोबार करने वाले लोगों की जो जमात है और इसमें से कई अखबार को सिर्फ अपने कारोबार का कवच बनाना चाहते हैं उनके लिए उनके पत्रकार उनके धंधे के चौकीदार के अलावा कुछ नहीं होते। प्रभाष जी की लड़ाई पत्रकार को चौकीदार बनाने के खिलाफ थी। जो यह लड़ाई जारी रखेगा वही प्रभाष जी की परंपरा का हिस्सेदार होने का हक पाएगा।


प्रभाष जी के जाने के यथार्थ का आभास सिर्फ पत्रकारिता जगत को नहीं बल्कि पूरे समाज को होने में वक्त लगेगा। अभी से बहुत सारे आंदोलनकर्मी, बहुत सारे जूझारू पत्रकार और बहुत से साहित्यकार कहने लग गए हैं कि प्रभाष जी के बिना सब कुछ अधूरा लग रहा है। प्रभाष जी को भी इस संसार में जो अधूरा लगता था उसे पूरा करने की कोशिश वे कर रहे हैं। पहले भी कह चुका हूँ  और फिर कह रहा हूँ कि प्रभाष जी वैरागी नहीं थे मगर उनकी सांसारिकता और उनके संघर्ष हमारे संसार को बेहतर और रहने लायक बनाने वाले थे। प्रभाष जी के आत्मा को भगवान कभी शांति नहीं दे। उनकी आत्मा हमारी नायक बनी रहे। आंखे बंद कर के सुनिए यह आत्मा पुकार रही है- आओ और संघर्ष के सहयात्री बनो।

कोई है?


आलोक तोमर 
प्रभाष जी के आत्मा को भगवान कभी शांति नहीं दे। प्रभाष जी के आत्मा को भगवान कभी शांति नहीं दे। Reviewed by Kavita Vachaknavee on Thursday, November 12, 2009 Rating: 5

8 comments:

  1. प्रभाष जी में कमियाँ हो सकती हैं, वे हर इंसान और हर नायक में होती हैं। लेकिन वे जनता के संघर्षों के साथ थे। उसे मजबूत होते देखना चाहते थे।

    ReplyDelete
  2. ठीक बात लिखी है आपने..
    पर आप जैसे वरिष्ठ ब्लॉगर को भी क्या सनसनीखेज शीर्षक की आवश्यकता होती है...?

    ReplyDelete
  3. मैं आपकी बातों से बिल्कुल सहमत हूं। उनकी आत्मा हमारी नायक बनी रहे। वरना कुछ लोग तो यह भी कहने से बाज नहीं आ रहे “कृपया प्रभाष जोशी का झूठा महिमामंडन न करें” ।
    मेरा ख़्याल और है, उसका ख़्याल और,
    हर इक को अख़्तियार है, किसको मना करें।

    ReplyDelete
  4. aap hindustan mein likh rehe hai hindu samskaron ka saamman ker rehe hote to es tarah ka chokkane wala shirshak kabhi nhai likhte....muje behad afsos hai ki aap ka lekh achaa hai aapki bhavna achhi hai magar shirshak vahi maal bechne ki fikra mein sasta v dil dukhane wala...

    ReplyDelete
  5. An email-


    Re: [हिन्दी-भारत] प्रभाष जी के आत्मा को भगवान कभी शांति नहीं दे।
    ...
    From:
    Suresh Kumar
    ...
    View Contact
    To: HINDI-BHARAT@yahoogroups.com


    इससे अधिक ईमानदार और मर्मस्पर्शी श्रद्धांजलि शायद नहीं हो सकती. सचमुच प्रभाष जी के बिना हिन्दी पत्रकारिता पहले जैसी नहीं रहेगी. ’कागद कारे’ अब कभी न पढ पाएंगे.


    - सुरेश कुमार
    Prof Suresh Kumar
    A-45, Welcome Apartments
    Sector 9, Rohini
    Delhi-110085

    ReplyDelete
  6. अत्यन्त सार्थक आलेख । बेहद संजीदगी से की गयी अभिव्यक्ति ।

    ReplyDelete
  7. हम जैसे नए पत्रकारों के लिए प्रभाषजी एक किताब थे और 'कागद कारे' उस किताब के पाठ। अब जब वो नहीं तो इस माहौल में बेड़ियां तोड़ने का हौसला और बढ़ गया है। क्यूंकि यही उनको सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Powered by Blogger.