आमंत्रण

प्रभु जोशी जी के लेखक रूप से हिन्दी के पाठक अच्छी प्रकार परिचित हैं हिन्दी भारत के पाठकों के लिए उनकी कहानी ( एक चुप्पी क्रॉस पर चढ़ी ) लेखमाला (इसलिए बिदा करना चाहते हैं हिन्दी को हिन्दी के अखबार , , ) तथा एक महत्त्वपूर्ण आलेखक्रम ( कंडोम प्रोमोशन कार्यक्रम ) को यहाँ प्रस्तुत किया गया थाजो मित्र उनकी कहानी आलेख किन्हीं कारणों से नहीं पढ़ पाए वे इस पूरी सामग्री को यहाँ पढ़ सकते हैं

जोशी जी लंबे समय तक नई दुनिया के सम्पादक भी रहेआजकल वे इंदौर दूरदर्शन का दायित्व सम्हाले हुए हैं

इन सब उत्तरदायित्वों विविध पक्षों के बीच उनके व्यक्तित्व में निहित रंगों के चितेरे चित्रकार होने का एक ऐसा अद्भुत रूप है, जिसे देश - दुनिया में बड़े सम्मान से देखा माना जाता हैरंग-प्रयोग में विरलता उनकी विशेषता है. गत दिनों जयपुर में हुई उनकी चित्र प्रदर्शनी मीडिया में बहुत चर्चा का विषय रही चित्रकला के मर्मज्ञों द्वारा अत्यन्त सराही गयी

जोशी जी के चित्रों की एक प्रदर्शनी मुम्बई की जहांगीर आर्ट गैलरी में (१५ एप्रिल से २१ एप्रिल तक ) आयोजित होने जा रही है, जिसका उद्घाटन १५ एप्रिल की सायं .३० बजे प्रसिद्ध पत्रकार प्रीतीश नंदी करेंगेसभी सादर आमंत्रित हैं

कार्यक्रम की विस्तृत जानकारी के लिए यहाँ नीचे देखें






बड़े आकार में देखने-पढने के लिए इमेज पर क्लिक करें











कार्यक्रम : आमंत्रण


परिचय

2 comments:

  1. प्रभु जोशी जी का एक लेख हिन्दी की हत्या के विरुद्ध कुछ समय पहले अभिव्यक्ति पर प्रकाशित हुआ था।
    उस लेख को पढ़ने के बाद मैं प्रभुजी के लेकन से बहुत प्रभावित हुआ हूँ।
    मुंबई जा पाना तो संभव नहीं पर अगर उनका हैदराबाद आना हुआ तो उनकी कृतियों जरूर देखना चाहूंगा।

    ReplyDelete
  2. joshi ek adbhut citrakaar ke sath sath sahityakaar bhi hai. mai to shri joshiji hamesha sampark me rahta hu. ek saral swabhav wale apaar kshamta wale vishith vyakti hai. unki likhi kahaniya aur lekh mai hi type kiya karta hu. unki painting to wakai adhbhut hai. mai abhari hun kavita ji ka aur hindibharat blog ka jiske madhyam se ek baar kya kai baar joshiji ke lekhon ko padane ka mauka milta hai. haal hi me joshi ji JAIPUR me painting ki exhibhition sampann hui hai aur agami 15 April 2009 ko mumbai me exibhition hone wali hai. in dino joshi ji painting banane me vyast hai.

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Comments system

Disqus Shortname