पब,शराबबंदी, गुंडागर्दी और गांधीगीरी : लड़कियाँ और विरोध


"राम के नाम पर यह कैसा काम ? लड़के पिएँ तो कुछ नहीं और लड़कियाँ पिएँ तो हराम ? पब से सिर्फ़ लड़कियों को पकड़ना, घसीटना और मारना - इसका मतलब क्या हुआ? क्या यह नहीं कि हिंसा करने वाले को शराब की चिंता नहीं है बल्कि लड़कियों की चिंता हैवे शराब-विरोधी हीं हैं, स्त्री-विरोधी हैं। यदि शराब पीना बुरा है, मदिरालय में जाना अनैतिक है, भारतीय सभ्यता का अपमान है, तो क्या यह सब तभी है, जब स्त्रियाँ वहाँ जाएँ? यदि पुरुष जाए तो क्या यह सब ठीक हो जाता है? इस पुरुषवादी सोच का नशा अंगूर की शराब के नशे से ज्यादा खतरनाक है. शराब पीकर पुरुष जितने अपराध करते हैं, उस से ज्यादा अपराध वे पौरुष की अकड़ में करते हैंइस देश में पत्नियों के विरूद्ध पतियों के अत्याचार की कथाएँ अनंत हैंकई मर्द अपनी बहनों और बेटियों की हत्या इसलिए कर देते हैं कि उन्होंने गैर-जाति या गैर- मजहब के आदमी से शादी कर ली थीजीती हुई फौजें हारे हुए लोगों की स्त्रियों से बलात्कार क्यों करती हैं ? इसलिए कि उन पर उनके पौरुष का नशा छाया रहता हैबैगलूर के तथाकथित राम-सैनिक भी इसी नशे का शिकार हैंउनका नशा उतारना बेहद जरूरी हैस्त्री-पुरुष समता का हर समर्थक उनकी गुंडागर्दी की भर्त्सना करेगा"


सामयिक घटना पर केंद्रित विचारोत्तेजक संतुलित लेख -


(इमेज पर क्लिक कर बड़े आकार में देखें-पढ़ें
)









4 comments:

  1. वाकई बुराई के अड्डों पर प्रशासन कि नज़र और नियंत्रण होना बहुत जरूरी है.
    - विजय

    ReplyDelete
  2. सही कहा-एक नियंत्रण तो होना ही चाहिये.

    ReplyDelete
  3. बिल्‍कुल सही कहा है आपने नियंत्रण होना चाहिए हम आपकी बात से सहमत हैं। अगर कानून समाज है तो सब के लिए नहीं है तो किसी के लिए भी नहीं
    मन से

    ReplyDelete
  4. सवाल स्त्री या पुरुष से अधिक उस व्यसन को समाप्त करना ध्येय होना चाहिए उन समाज सेवियों का; और इसके लिए जो सरकार ऐसे बार, पब, क्लब आदि को इजाज़त दे रही हो, उसका विरोध करना चाहिए।

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Comments system

Disqus Shortname