The Meaning of Modi : by Dr. Harish Chandra (Houston, USA)


Dr Harish Chandra is a combustion scientist with BTech from IIT Kanpur and PhD from Princeton. He switched to Vedic philosophy about 20 years ago and is an authority on Patanjali Yoga Darshan and Meditation. As a Vedic scholar, he speaks and writes on various topics. His primary interest is to develop the unified theory of matter and consciousness.


The Meaning of Modi
by
Dr. Harish Chandra (Houston, USA)


  Indian civilization is probably the only ancient civilization that continues to survive although in a degraded form as Hinduism. It went through a phase of decline about 6000 years ago, much before the MahaBharata war. Until then, the classic Vedic civilization guided the population toward a holistic life based on Dharma – universal principles that govern a civil society; the principles that everybody expects from others – the Manava Dharma, the humanism. Manu states that there is no Dharma beyond Truth – Na hi Satyat-Paro DharmahDharma, not to be confused with religions, is fully established in a society/nation, say, if a young beautiful woman laden with gold jewelry can roam freely along the streets in the middle of a night without any sense of fear or apprehension as if she is within the walls of her older brother’s home. It is very important to understand the true meaning of Dharma to understand the point under discussion. It can be safely stated that present religions often lead one to something contrary to Dharma, sooner or later, including Hinduism. It is not far from truth that you meet an atheist who is a better human being than one following one religion or another. So much so on Dharma and religions; let us move on to the point.

The decline of Dharma led to the Hindu religion prevalent today. A number of reformers made efforts to arrest the decline until MahaBharata but didn't quite succeed and the decline accelerated. Thereafter, Shankara attempted to bring the population back to the Vedas, succeeding partly to gain inspiration from the Upanishads. The remaining task was fulfilled by Dayananda Sarasvati in the 19th century bringing the Vedas back to the centerstage with its pristine glory. Meanwhile, on the political plane, the said decline caused massive divisions that even foreign invaders began to toy the idea to dominate India. Chanakya, about 2300 years ago, mentored ChandraGupta to improve the conditions. But much later, India did fall into foreign domination. Finally, we gained independence in 1947.

However, the leadership at that time failed to consolidate the cultural ethos in 1947 and the following 67 years saw a caste and religion-based political setup. The mushrooming political parties attempted to further divide the population to create their own smaller pockets of influence for their petty gains. This finally gave rise to an immensely corrupt system that ignored the national interest and everybody looked for personal gains, the motive cascading from the top political leadership to the man on the street. The top leaders busy with larger scams overlooked the smaller pockets becoming the personal constituency of smaller leaders, the chain breaking down to the smallest area run with the whims and fancies of a local mafia leader. The Loka-Tantra had degenerated to Loot-Tantra. Innovative methods were developed to shovel India into intricate mafia style in almost every quarter of its functioning. Mafia was present in all shades and colors, and almost the entire population was part of it, except some helpless spectators. Everybody identified himself as part of one special interest group or another, seldom caring for the nation. Almost everybody was buyable, the price tag differed from some rupees to bag loads of cash. The degeneration encouraged the neighboring hostile country to work toward “inflicting thousand wounds to India to bleed it to its death”.

In such a degenerated state of affairs, Narendra Modi took over the reins of the country in 2014 on the slogan of Sabka Saath, Sabka Vikas. There is no need to list his contributions in this direction and many other things he did in national interest. The poor urgently needed rotikapda and makan (bread, clothes and house) and he delivered on the slogan. But the true meaning of Modi lies somewhere else; the miracle is that he changed the system via inner cleansing within a period of five years that the Dharma (truth and honesty) gained acceptance. No corruption at the cabinet level in the five years would have been an unthinkable possibility but it did happen. Its salutary effect began to cascade downstream.

Let us use some figures to better understand the point though quite speculative. The country had become the playground of dishonest and corrupt people that probably only 10% of the population was honest in 2014; the Dharma existed, say, at the level of mere 10% as if we lived in a banana republic. In mere five years, the figure has touched somewhere at 20%. We foresee a new India in the next ten years that Dharma may prevail at 40-50% level, almost at par with Europe and America though we may continue to bear the tag of “developing nation” for some more years. Imagine the pride of an Indian declaring ten years hence that our nation is as honest as the civil societies worldwide. The meaning of Modi may further raise Dharma at par with Japan and Scandinavian countries in another ten years. The true meaning of Modi needs to be appreciated that he performs at the dual plane, both worldly material progress along with the much-needed internal cleansing to raise the level of Dharma (truth and honesty). In so doing, he demolishes all the divisive walls and channelize the vast population to think for the nation first. If 2014 can be characterized as Mafia’s audacity to make the people accept all the wrongdoings as the norm “Hua to Hua” – things just happen, then 2019 represents an empowered population who built the courage to say “Ab Bahut Hua” – Enough is Enough. Most importantly, the ever-present mafia will either be in jail or reformed; there is no third choice for them beyond 2019. He has already declared: India will have two classes only – the poor and those uplifting the poor. He wants everybody’s trust; the slogan has been made furthermore inclusive – Sabka Saath, Sabka Vikas, Sabka Vishvas. There is no provision for any division among the country’s population.

Try being objective. Let us list the qualities that the prime minister of India ought to possess: honest, hardworking, intelligent, shrewd to defeat the negative forces within the nation and outside too, to inspire the population to rise above division and for national interest, oratory, etc. The meaning of Modi means an optimum mix of all such characteristics. The recent human history has not produced such a character. No such leader was present in 1947 and nor in 1977 when euphoria was present to be harnessed. But the absence of a capable leader made them lost opportunities. However, the years of 2014-’19 present an altogether different process when a capable leader has generated the euphoria that is irreversible, to say the least; the next five years will reveal the true meaning of Modi and the true meaning of India, too. Hence, it is very important to further understand the meaning of Modi so that we can foresee what is in store in the future. A little historical comparison is needed though it is not very desirable to compare great personalities. Gandhiji’s contributions to the modern India were enormous. But his blunder was to sideline Netaji Bose and Sardar Patel to impose the Nehru-Gandhi legacy on the nation. In comparison, Modi = Gandhiji minus the latter’s Himalayan blunders. If we go further deeper in history, Modi = Chanakya plus ChandraGupta.

India is gradually gaining its rightful place in the league of the nations. Modi will be orchestrating huge upheavals in the world in the next few years, if not presiding over them. The overall impact will be that Dharma will shine more and in the larger part of the world. The true meaning of Modi can be explained by referring to Narendra Modi as Modi Number One. Indian population is oblivious to the fact that Modi Number One delivers development over the undercurrent of Dharma about which they may not care though indeed it is the worth of Dharma that it can make the lasting effect of development and ensure that the population is not divided among exploiters and exploited ones. Likewise, this should not be surprising if Modi Number One is oblivious to the fact that his supposed inspiration from Vivekanand and Gita actually emanates from the inspiration of Dayanand and the Vedas. We can foresee Modi Number Two inspired by Dayanand and the Vedas who will steer India to make the lighthouse for the world, generating a new world filled with universal love, brotherhood and peace within the 21st century. As such, undoubtedly, the multitude of religions and various other isms such as capitalism, communism, socialism, etc. have failed the humanity and only the true genuine Dharma based on truth (including the science of matter and non-material consciousness) and honesty can fulfill the human aspirations. Maybe, Modi Number One will graduate to become Modi Number Two. If 2014-’19 allowed us to know Modi then 2019-’24 and beyond will allow us to know the Meaning of Modi.

मोदी के मायने व अर्थ

मोदी के मायने व अर्थ


लेखक - डॉ. हरिश्चन्द्र (ह्यूस्टन, अमेरिका)


Dr Harish Chandra is a combustion scientist with BTech from IIT Kanpur and PhD from Princeton. He switched to Vedic philosophy about 20 years ago and is an authority on Patanjali Yoga Darshan and  Meditation. As a Vedic scholar, he speaks and writes on various topics. His primary interest is to develop the unified theory of matter and consciousness.


प्राचीन सभ्यताओं में से भारतीय सभ्यता ही सम्भवतः एकमात्र जीवित सभ्यता है, किन्तु विकृत रूप में। महाभारत युद्ध से भी लगभग १००० वर्ष पूर्व से यह ह्रास को प्राप्त होने लगी थी, अर्थात् ६००० वर्ष पूर्व से। उसके पूर्व वैदिक सभ्यता ने जनमानस को सर्वांगीण विकास की ओर अग्रसर किया जिसमें सांसारिक और आध्यात्मिक, दोनों का ही सन्तुलित रूप में समावेश था - जिसे धर्म का रूप कह सकते हैं। धर्म का आशय सार्वभौमिक सिद्धान्तों से है जो एक समाज को सभ्य ढंग से जीवित रखने में सक्षम हैं - इसे मानव धर्म, या मानवतावाद भी कह सकते हैं; किन्तु, यह कदापि मजहब, पन्थ, रिलिजन नहीं कहा जा सकता है। मनु ने लिखा है - न हि सत्यात्परो धर्मः - सत्य से परे कोई धर्म नहीं है। यदि एक समाज / राष्ट्र में धर्म की स्थापना हो गयी है तो एक मानक यह हो सकता है कि एक रूपवती लावण्यवती षोडशा सुन्दरी स्वर्णाभूषणों से लदी नगर के मुख्य मार्ग पर आधी रात में निर्भय और निश्शंक ऐसे स्वच्छन्द विचर सकती है जैसे कि वह अपने बड़े भाई के घर में हो। धर्म का सही आशय समझना आवश्यक है कि हम विषय पर विचार को आगे बढ़ा सकें। स्पष्टतः आज के मजहब कभी न कभी धर्म से विपरीत दिशा की ओर चले जाते हैं; दुर्भाग्य से हिदुत्व की भी यही गति है। यह तथ्य से परे नहीं है कि आप एक नास्तिक से मिलते हैं जो एक मजहब को मानने वाले व्यक्ति की अपेक्षा बेहतर व्यक्ति होता है। धर्म और मजहब की चर्चा को पीछे छोड़ कर अब हम विषय पर चलते हैं। 



धर्म के ह्रास का परिणाम आज का हिन्दुत्व है। महाभारत के पूर्व तक अनेक सुधारकों ने धर्म के ह्रास को रोकने का यत्न किया किन्तु पूरी तरह से सफल नहीं हुए। तत्पश्चात शंकर ने जनमानस को वेदों की ओर ले जाना चाहा किन्तु वे उपनिषद तक ही पहुँचा सके। शेष कार्य की पूर्ति १९ वीं शताब्दी में दयानन्द सरस्वती ने की, जब वे वेदों को पुनः भारतीय जनमानस के मध्य गौरवपूर्ण स्थान दिला सके। इस अवधि में राजनैतिक स्तर पर, उपर्युक्त ह्रास के कारण भारत में विभिन्न स्तर पर आपसी फूट के लक्षण दीखने लगे थे कि विदेशी शक्तियाँ मुँह बाये खड़ी थीं। लगभग २३०० वर्ष पूर्व, चाणक्य ने चन्द्रगुप्त को तैयार किया कि विदेशी शक्तियों को मुँहतोड़ उत्तर दिया जा सके। तथापि, कुछ काल पश्चात, भारत पर विदेशी शासन आ गया। अन्ततः, १९४७ में भारत स्वतन्त्र हुआ।



किन्तु, १९४७ के नेतृत्व ने उस काल के जोश का लाभ न उठाते हुए भारतीय संस्कृति के मुख्य बिंदुओं की अनदेखी की और बाद के ६७ वर्षों में राजनीति जातिगत-मजहबगत भेदभावों को रेखांकित करने लगी। अनवरत नयी पार्टियाँ अपने वोट बैंक को स्थायी बनाने के उद्देश्य से निहित स्वार्थों के चलते जनमानस को बाँटने में ही तुली रहीं। परिणामतः, एक ऐसी भ्रष्ट मानसिकता ने दीमक की तरह देश के हर अंग को खा लिया जहाँ मात्र स्वार्थसिद्धि ही प्रमुख थी और राष्ट्रहित को ताक पर रख दिया गया था - शीर्ष स्तर के राजनीतिक गलियारों से निकल कर सामान्य नागरिक तक को इसने दबोच रखा था। दिल्ली के बड़े राजनेता बड़े घोटालों में लिप्त थे और छुटभैयों को अपने स्थानीय स्तर पर दादागिरी करने की स्वतन्त्रता थी। लोकतन्त्र लूटतन्त्र में बदल गया था। या, इसे माफियातंत्र कह सकते हैं। प्रत्येक व्यक्ति एक विशेष लाभार्थी वर्ग का हिस्सा बन गया था और राष्ट्रहित से किसी को कोई सरोकार नहीं था। हर भारतीय बिकाऊ था - बस, मूल्य का अन्तर था - कुछ रुपयों से ले कर थैलों भरी नगदी चाहिए और आप किसीको भी खरीद सकते थे। किसीको देश की चिंता नहीं थी। यह सड़न यहाँ तक दुर्गन्ध दे रही थी कि पडोसी देश ने “भारत के हजार घावों से खून बहा कर” मारने की नीति बना रखी थी। भारत के हर भूभाग में माफिया तन्त्र सुशोभित था, विभिन्न रंगों में। हर भारतीय चाहे-अनचाहे इसका अंग बन गया था, सिवाय मुट्ठी भर लोगों के जो इस पराभव को दर्शक के रूप में देखने को विवश थे।

ऐसी अवनति के कालखण्ड में नरेन्द्र मोदी ने “सबका साथ सबका विकास” के नारे पर देश की बागडोर २०१४ में सम्हाली थी। विकास की दिशा में उनके योगदान और राष्ट्रहित में किये गए अन्य कार्यों का वर्णन करने की कोई आवश्यकता नहीं है। मोदी के सही अर्थ यथार्थ में कहीं और ही छिपे हुए हैं। गरीब को रोटी, कपड़ा, मकान से मतलब था और मोदी ने अपने वचन का निर्वाह किया भी। किन्तु, उनका असली चमत्कार था कि पाँच वर्षों में ही देश को भ्र्ष्टाचार रूपी दीमक से मुक्ति दिलायी कि देशवासी धर्म की महत्ता को समझने लगे - सच्चाई और ईमानदारी। पाँच वर्षों में कैबिनेट स्तर पर कोई घोटाला न होने की किसी ने भी सोची नहीं थी और ऐसा कर के दिखाया। इसका प्रभाव निचले स्तरों पर भी दिखने लगा है।



हम कुछ संख्याओं का उपयोग करते हुए चर्चा को आगे बढ़ाते हैं; संख्याएँ मात्र काल्पनिक ही हैं। २०१४ में झूठ और बेईमानी का बोलबाला था कि मानिये १०% जनता ईमानदार थी - धर्म के मार्ग पर थी, जैसे कि हम एक अति पिछड़े असभ्य देश में हों। विगत मात्र ५ वर्षों में यह संख्या २०% हो गयी होगी। आगामी दस वर्षों में यह ४०-५०% तक पहुंच सकती है जो आज के यूरोप-अमेरिका का स्तर है। कल्पना कीजिये उस गौरव की अनुभूति की जब एक भारतीय सिर उठा कर चल सकेगा कि हम उस देश के वासी हैं जहाँ सच्चाई और ईमानदारी का अंतर्राष्ट्रीय मापदण्ड शोभायमान है; भले ही हम तब भी विकासशील ही क्यों न कहलायें। मोदी के मायनों के चलते आगे के दस वर्षों में हमारा धर्म का स्तर भारत को जापान और स्कैंडेनेविया के देशों की कतार में खड़ा कर सकता है। मोदी के वास्तविक अर्थ को समझने के लिए यह समझना आवश्यक है कि भारत दो पटरी पर तीव्र गति से चल रहा है - पहली पटरी भौतिक विकास (अभ्युदय) से संबंधित है तो दूसरी पटरी धर्म को धारण करने से संबंधित है - आंतरिक स्वच्छता द्वारा सच्चाई और ईमानदारी को बढ़ावा देना। ऐसा करते हुए, विभाजन की सारी दीवारें ढह गयी हैं - जातिवाद, मजहबवाद, आदि सबको देश विदाई दे रहा है। अब तो माफियातंत्र के पास कोई अवकाश नहीं है - सुधर जाओ या जेल में जाओ। २०१४ का आकलन ऐसे किया जा सकता है कि माफिया ने भारतीयों को ऐसी मानसिकता में जकड़ दिया था जैसे कि भ्रष्ट गतिविधियों का होना सामान्य बात है - "हुआ तो हुआ"। तो, २०१९ ऐसे याद किया जायेगा कि जनता ने साहसपूर्ण हुंकार भरी हो - अब बहुत हुआ। करोड़ों भारतवासी अब राष्ट्रहित को भी देखने लगे हैं कि राष्ट्रहित में ही मेरा हित है। उन्होंने तो घोषणा भी कर दी है कि अब भारत में दो ही वर्ग हैं - गरीब और गरीबों को गरीबी से बाहर निकालने वाले। उन्हें सबका विश्वास चाहिए - सबका साथ, सबका विकास के नारे के साथ‘सबका विश्वास’ भी जुड़ गया है। अब भारत को विभाजित करने वालों को मुँह की खानी पड़ेगी । 


आइये, निष्पक्ष हो कर विचार करें। भारत के प्रधान मंत्री में अपेक्षित गुणों की एक वृहद् तालिका बनाते हैं :- कर्मठता, ईमानदारी, बुद्धिमत्ता, दुष्टों का दमन करने का सामर्थ्य, देशवासियों को एकजुट कर राष्ट्रहित में संलग्न करने की क्षमता, वक्तृता, इत्यादि। मोदी का मतलब है कि इन सब गुणों का उनमें समुचित समावेश है। निकट इतिहास में ऐसा व्यक्ति उत्पन्न हुआ नहीं दीखता है। १९४७ में ऐसा कोई नायक होता तो भारत को ये दुर्दिन नहीं देखने पड़ते। १९७७ में भी ऐसे एक नायक की कमी रह गयी थी। लेकिन २०१४-'१९ ने जो देखा है, वह अत्यन्त विलक्षण है। जनता ने जो जनादेश दिया है; अब भारत का यह मार्ग अपरिवर्त्तनीय है - इसे कोई ताकत बदल नहीं सकती है। अतः मोदी का अर्थ समझना हम सबके लिए वांछनीय है जिससे कि हम समझ सकें कि भविष्य के गर्त में क्या छिपा हुआ है। प्रायः महापुरुषों में तुलना नहीं की जानी चाहिए किन्तु मोदी का मतलब भली प्रकार से समझने के लिए यह आवश्यक है। आधुनिक भारत में गांधीजी के योगदान की सराहना की जानी चाहिए। किन्तु, नेताजी बोस और सरदार पटेल को अनदेखा कर के नेहरू-गाँधी वंश को भारत पर थोप कर उनसे जो भूल हुई उससे देश को व्यापक क्षति हुई। अतः, कह सकते हैं कि मोदी = गांधीजी - उनकी भूल। कुछ और पीछे जाएँ तो कह सकते हैं कि मोदी = चाणक्य + चन्द्रगुप्त। 

वैश्विक स्तर पर भारत अपना उपयुक्त स्थान पाने की ओर अग्रसर है। आने वाले वर्षों में मोदी के नेतृत्व में या उनसे प्रभावित हो कर विश्व में व्यापक फेर-बदल होंगे। अभिप्राय यह है कि धर्म की नये स्थानों में स्थापना होगी और उसकी ज्योति की तीव्रता में वृद्धि होगी। मोदी का सही मतलब जानने के लिए आवश्यक है कि हम नरेन्द्र मोदी को मोदी नम्बर एक मानें। जैसे, भारतीय जनमानस इस बात से अनभिज्ञ है कि भारत मात्र विकास की ओर ही नहीं बढ़ रहा अपितु इसके साथ देश में सच्चाई और ईमानदारी भी बढ़ रही है। हो सकता है कि जनता को ईमानदारी से मतलब न हो किन्तु बिना ईमानदारी के विकास जब कभी भी धूमिल हो सकता है; देश पुनः शोषक और शोषित के दो वर्गों में विभक्त हो जायेगा। वैसे ही, हमें भी आश्चर्य नहीं होना चाहिए यदि मोदी नम्बर एक को इस बात का भान नहीं है कि उनके प्रेरणा स्रोत विवेकानंद और गीता भी तब ही बन पाए जब दयानन्द और वेद की प्रेरणा उपलब्ध थी। हम भविष्य के मोदी नम्बर दो को देख सकते हैं जो दयानन्द और वेद से प्रेरित हो कर भारत को विश्व का ज्योतिस्तम्भ बना कर २१वीं सदी में सकल मानवता को विश्व-प्रेम, विश्व-बंधुत्व, विश्व-शांति के बहुप्रतीक्षित गन्तव्य पर पहुँचा दे। यह तो अब अच्छी तरह से स्पष्ट हो गया है कि सारे मजहब (जिसमें हिंदुत्व भी सम्मिलित है) और विभिन्न वाद (यथा, साम्यवाद, पूँजीवाद, समाजवाद इत्यादि) विफल हो चुके हैं और शुद्ध धर्म - सत्य पर आधारित जिसमें पदार्थ विद्या और अध्यात्म का समुचित समावेश है - ही मनुष्य को सनातन आकांक्षाओं से पूरित कर सकते हैं। कदाचित, मोदी नम्बर एक ही निखर कर मोदी नम्बर दो बन जाये। २०१४-'१९ में हमने मोदी को जाना है; २०१९-'२४ में अब हमें मोदी के अर्थों को जानना है।   


पंजाब चुनाव परिणाम : कॉंग्रेस vs खालिस्तान+केजरीवाल की AAP

पंजाब चुनाव परिणाम : कॉंग्रेस vs खालिस्तान+केजरीवाल की AAP : कविता वाचक्नवी

पंजाब में सत्ता परिवर्तन का समय है, स्वाभाविक है लोग बदलाव चाहते हैं (हर कोई गुजरात व नरेन्द्र मोदी नहीं हो सकता) इसलिए सत्ता किसी अन्य पार्टी के हाथ दी जाएगी।अच्छा होगा कि ऐसी स्थिति में भले ही कॉंग्रेस आ जाए परन्तु किसी भी स्थिति में केजरीवाल व उसकी आआपा नहीं आने चाहिए। केजरीवाल कैनडा से संचालित खालिस्तानियों के पैसे और इशारे से संचालित है। अगर वह आया तो पंजाब में वही 80' के दशक वाला दौर फिर से आ जाएगा; क्योंकि खालिस्तान-समर्थक तो पूरी तरह से पाकिस्तान की कठपुतलियाँ हैं। इसलिए कॉंग्रेस और केजरी में जनता के लिए केजरीवाल से बचाव का यही उपाय है कि केजरी किसी भी स्थिति में वहाँ नहीं आना चाहिए। वह पंजाब के लिए भयंकर खतरा है, इसलिए देश के लिए भी खतरा ही हुआ। 


- अकाली हारेंगे (क्योंकि वे सत्ता में हैं; और सत्ता बदलनी ही बदलनी है इस बार) 

- कॉंग्रेस यद्यपि अन्तिम साँसें ले रही है किन्तु पंजाब में उसके जीतने की सम्भावना प्रबल है। इसलिए नहीं कि लोगों ने उसे माफ़ कर दिया या लोग उसके घोटाले और आतंक को पालने की कूटनीति भूल गए, या उसका परिवारवादी एजेण्डा भूल गए, या उसका अयोग्य नेतृत्व भूल गए, न न, ऐसा कुछ नहीं। यह उसका कमाल नहीं अपितु केवल इसलिए क्योंकि उसे 'सत्ता परिवर्तन के अवसर' का लाभ मिलेगा। जनता के पास कोईअन्य विकल्प ही नहीं।

- भाजपा को 'सत्ता परिवर्तन के अवसर' की हानि उठानी पड़ेगी 

- पंजाब वैसे भी पूरी तरह अपनी अगली नस्ल बर्बाद कर चुका है, अब न वहाँ शौर्य बचा है, न सम्पदा, न बलिदानभाव, न ऊँचे बहादुर गबरु स्वस्थ युवा पीढ़ी के प्रतिनिधि और न कुछ और। यूरिया पीढ़ी के बाद अब अधिकांशतः शराब और ड्रग्स पीढ़ी है। अधिकाँश जनता की तरह जिसे न देश से मतलब है, न देशहित से, न भविष्य से लेना देना है - न अतीत से। मुफ़्तखोरी तथा स्वार्थ का झुनझुना उनके लिए संसार की सबसे बड़ी उपलब्धि है। जिसने यह झुनझुना अधिक बेच लिया है, उसी को जीत में हार पहनने के लिए तैयार रहना चाहिए।


स्मृति ईरानी का ड्रामा और अभिनय ?


स्मृति ईरानी का ड्रामा और अभिनय ? 
- कविता वाचक्नवी 



‪#‎स्मृति‬ ‪#‎SmritiIrani‬ जी के वक्तव्य पर जिन्हें साँप सूँघ गया है, जिनके पास उन तर्कों के लिए अपने झूठों की सफाई में एक उत्तर भी नहीं है और उसके बावज़ूद ‪#‎तमाशेबाज़‬ हैं, वे अब‪ #‎अभिनय‬ का नाम लेकर मुँह छिपाने की कोशिशें कर रहे हैं। इन्हें तब तक स्त्रियों से कोई शिकायत नहीं होती जब तक वे इनका मनोरंजन करती रहती हैं, या उन स्त्रियों से भी कोई दिक्कत नहीं होती जो अपने 'तिरियाचरित्तर' में फाँस कर इन्हें उल्लू बनाए सदा अपना उल्लू सीधा करती हैं क्योंकि अक्ल के दुश्मन दो कौड़ी की अक्ल वाले ये, स्त्री के ‪#‎घाघरे‬ को ही अपनी ‪#‎जन्नत‬ समझते हैं और बदले में सारी उम्र ‪#‎इस्तेमाल‬ होने/करने को तत्पर रहते हैं। 

पर इन्हें कष्ट होता है हर उस स्त्री से, जो इनकी घाघरा पलटन पर थू करती हैं, इनकी आँख में उँगली डाल सच दिखाने का ‪#‎साहस‬ जिनके पास होता है, जो इन्हें इनके असली चेहरे दिखा सकती हैं और जो न इस्तेमाल होतीं हैं, न इस्तेमाल करती हैं।

यह ‪#‎लम्पट‬ ज़मात ऐसी तेजस्वी स्त्रियाँ देखने लायक नहीं है। इन्हें तो लुंजपुंज या लटके-झटके वाली औरतें मनोरंजन के लिए चाहिएँ।

ये ‪#‎पुरुषवादी‬ घिनौने मस्तिष्कों वाले लोग जो अपढ़-से-अपढ़ और अपराधी-से-अपराधी नेताओं तक के आज तक चरण-चुम्बन करते आए हैं पर कोई स्त्री यदि सच्चे अर्थों में 'योग्य' व समर्थ-सबल हो तो ये बहाने ढूँढते हैं उसे नीचा दिखाने के और उसे अपमानित कर अपना निर्लज्ज ‪#‎मर्दवाद‬ दिखाने के। ऐसा करने में वे स्त्रियाँ भी कम नहीं रहतीं जो मर्दों के हाथ में‪#‎कठपुतली‬ बने रहने या मर्दों को अपने हाथ की कठपुतली बनाए रखने से आगे किसी संसार की कल्पना में समर्थ नहीं होती हैं। भले ही वे अपने को समर्थ स्त्री समझती रहें। मेरी नजर में ऐसी स्त्रियाँ उस स्त्री जैसी समर्थ हैं जो ‪#‎पान‬ की पीक टपकाती किसी ‪#‎कोठे‬ की ‪#‎मालकिन‬होती है और कमजोर बेचारी लड़कियों से ‪#‎धंधा‬ करवा उनकी मालकिन और मसीहा समझती है खुद को और सबल स्त्री होने का ‪#‎गुमान‬ और रौब पाले घूमती है।

इन सब के लिए ‪#‎राजनीति‬ के गंदे अखाड़े में अपनी योग्यता, साहस और सामर्थ्य के बल पर सबको पटखनी देने वाली नेतृत्वसक्षम ‪#‎स्त्री‬ भला किस काम की? न तो वह लटके-झटकों से इनका मनोरंजन करेगी, न इनके हाथों इस्तेमाल होगी, यानि न इनके इशारों पर नाचेगी और न नचाएगी; तो इन बेचारे नौटंकी और तमाशेबाजों की दुकान कैसे चलेगी? इनका मजमा तो उखड़ ही जाएगा, मनोरंजन पर मनो पानी पड़ जाएगा, ये मनोरंजन और भोग के विलास में डूबे रहने के आदी हैं, वही आपसी इस्तेमाल वाला ‪#‎विलास‬ इनके भोगलालसा का चरम है, इनके लिए ‪#‎देश‬, तथ्य, सबल स्त्री, ईमानदारी, योग्यता, सामर्थ्य, शक्ति आदि जैसी शब्दावली भी भोग में व्यवधान है। इन्हें इनके रंगीन घाघरों के सड़ाँध मारते राग-रंग में ही अपनी चरममुक्ति समझ आती है। फैब इण्डिया के ट्रायल रूम में वस्त्र बदलने जाने पर स्त्रियों के प्रति देहवादी सोचवाली घाघरामुखी पलटन के छिपाए कैमरे भी तो स्मृति ने ही तो पकड़े थे ने. इन लोगों को स्त्री के रूप में एक महिला के अपमान की इच्छा बार बार होती है.  इनकी समझ और स्वार्थ की सीमा यही है, ‪#‎स्तर‬ यही है। 

और हम इनसे किसी समझदारी, सच्चाई, साहस, देशहित आदि की अपेक्षा करते हैं। कितने मूर्ख हैं हम। अरे भई, इन्हें सस्ते सड़कछाप परफ्यूम में डूबे कुछेक घाघरे चाहिएँ बस, दे दो ताकि अपने ‪#‎बेशर्म‬ मुँह तो छिपा ही सकें ये।

'भारत की बर्बादी' की आज़ादी का शोक

                                      

- कविता वाचक्नवी 





गत चार-छह दिन में कई मित्रों व परिचितों ने फ़ोन, मैसेज, व्हाट्सएप, मैसेंजरचैट व बातचीत आदि में देश की स्थितियों पर अपनी #व्यथा से अवगत करवाया है. स्वयं मैं भी इनसे बहुत #दु:खी और व्यथित हूँ. मित्रो ! यह भले ही भीषण उथल-पुथल का समय है किन्तु इस उथल-पुथल के कारण ही अब देश में जबरदस्त ध्रुवीकरण होगा. जिन राष्ट्रविरोधी दलों  ('शक्तियों' कहना उचित नहीं क्योंकि उनकी हरकतें कायराना हैं) ने देश में हाहाकार मचाने के षड्यंत्र रचे हैं, यह उनका विनाशकाल है और उन्होंने इस बार जो दाँव खेला है, वह उन पर ही भारी पड़ने वाला है. 


#लेनिनग्राद में ही दफ्न हो चुके वामपंथ सहित कई दीमकों की भारत में सफाई का समय है, इसीलिए राष्ट्र के शत्रुओं के साथ मिल उन्होंने सत्ताच्युत और अपने काले कारनामों के खुलने से भयभीत राजनैतिक दल के साथ मिल #देश के विनाश का यह #खेल खेला है. यह सारा षड्यंत्र असल में बजट काल के लिए सुरक्षित था किंतु #MakeInIndia को विफल करने और #हेडली द्वारा #इशरत वाला षड्यंत्र खुल जाने के कारण इस सारे षड्यंत्र को उन्हें तुरन्त अंजाम देना पड़ा. परिणाम आपके सामने हैं कि #प्रधानमन्त्री (PMO India) को बदनाम करने और काम न करने देने के लिए ये लोग आतंकवादियों का साथ देने व देश का संहार करने तक को उतारु हैं. इनकी तथाकथित विचारलॉबी बिके हुए बुद्धिजीवियों का षड्यन्त्रकारी गैंग ही है. वह #पुरस्कार लौटाऊ गैंग और असहिष्णुता के नाम पर देश को बदनाम करने वाले सब-के-सब अब सिरे से गायब हैं, मौन हैं. उनकी बला से देश भले तबाह हो जाए. असल में ये सब लोग भी देश को लूटने आने वाले हमलावरों का ही नया रूप हैं, जिनका उद्देश्य येन-केन-प्रकारेण देश को अधिकाधिक लूटना ही है और जो भी इनकी लूट में बाधा बनेगा उसे ये कुछ भी कर समाप्त कर देंगे, इन्हें देशहित या देश की जनता से कुछ लेना-देना नहीं, इन्हें तो बस अपनी लूट को अनवरत रखने से मतलब है. 


पर अब देश की जनता इनके गन्दे खेल देख इनके चेहरे पहचानने लगी है और इनके विरुद्ध एकीकृत होने लगी है. #भारत का साधारण-जन देश की बर्बादी कदापि नहीं माफ़ कर सकता, करोड़ों घरों के बेटे, पति और भाई सेना में हैं भले ही वह #हिन्दू हो या #मुसलमान, बराबर जान जोखिम में डाल देश की सुरक्षा करते आए हैं; इसलिए देश के शत्रुओं के हाथ का खिलौना बन "भारत की बर्बादी" के इन सबके दूषित संकल्प और कारनामों को कभी माफ़ नहीं कर सकते. देश के करोड़ों परिवार सेना के साथ गद्दारी नहीं कर सकते, सुरक्षा के साथ गद्दारी नहीं कर सकते। वे देश के साथ हैं, देशहित के साथ हैं. 


देश अब इनके असली चेहरे देख पा रहा है, इसलिए ध्रुवीकृत भी होगा ही. शायद यही देशहित में भी है. इसलिए मित्रो, इस तमाम वितण्डावाद से घबराइये और दु:खी मत होइए. यह घबराने का समय नहीं अपितु सामना कर देश को जगाने और इनके पोल खोलने का समय है. #KavitaVachaknavee

सम्मान लौटाने के षड्यन्त्र के बदले चलाएँ 'पुस्तक जलाओ' अभियान

सम्मान लौटाने के राष्ट्रविरोधी षड्यन्त्र के बदले चलाएँ 'पुस्तक जलाओ' अभियान 

- कविता वाचक्नवी


सम्मान लौटाने की यह तथाकथित मुहिम दारू और बोटी देने वाली कॉंग्रेस द्वारा अपने पालतू लोगों पर दबाव बना कर जारी करवाई गई है, इसमें कोई संदेह नहीं। जिन्हें उसने बोटी और दारू दे -दे कर पाला, NGOs के माध्यम से काले कारोबारों से / का  लाभ पहुँचाया, विदेश यात्राएँ करवाईं और कई तरह के अपराध में साथ रखने के लिए इनके स्वार्थ और टुच्चे लाभ पूरे करने के बड़े से बड़ा फायदा इन्हें पहुँचाया। 

अब जबकि  
- कॉंग्रेस सत्ता से बाहर है, 
- इन तथाकथित बुद्धिजीवियों को बोटियाँ देने की स्थिति में अब वह नहीं 
- एक शराब की बोतल तक पर बिक जाने को तैयार रहने वाले पत्रकारों और मीडिया वालों के भी दुर्दिन हैं, उन्हें विदेश यात्राएँ मोदी जी सरकारी खर्चे पर एकदम बंद कर चुके हैं अतः वे बदला लेने को उतारू हैं
- NGOs पर काफी लगाम है तो स्वार्थ सिद्धि का बड़ा दूसरा द्वार भी बंद है 
- कॉंग्रेस के काले कारनामे उजागर होने के दिन आ रहे हैं 
- अतः राजनैतिक और राष्ट्रीय अपराधों में बुद्धिजीवियों का सहयोग भी जनता के सामने आएगा 
- नेता जी सुभाषचन्द्र बोसस की फ़ाईलें उजागर होने के दिन दिनों-दिन निकट आ रहे हैं तो बड़ी साजिश खुलने से छटपटा रही है कॉंग्रेस 

 भारत की छवि और शक्ति और सामर्थ्य दिनों दिन बढ़ रहा है, जो देश के भीतरी और बाहरी शत्रुओं के लिए भीषण चिन्ता का कारण है। और उनके लिए तो विशेष चिन्ता का जो भीतर बैठ कर बाहरी शत्रुओं के साथी और सहयोगी हैं : विशेषतः चीन और पाकिस्तान समर्थक या उनसे पोषण पाने वाले उनके समर्थक। 

इसलिए इन सब कारणों के चलते कॉंग्रेस ने अपने पालतू बुद्धिजीवियों पर और उन बाहरी शत्रुओं के पैसे पर पलने वाले उनके समर्थकों / साथियों / संस्थाओं पर सोची-समझी नीति के तहत दबाव या धमकी या दोनों डाले गए हैं कि वे उनके अहसानों के बदले अब विश्व में ऐसा माहौल बनाएँ ताकि मोदी सरकार पर दबाव हो, छवि बिगड़े और चुनावों में क्षति पहुँचे। 

राष्ट्रविरोधी तीन मुख्य लक्ष्य जो इस सारी नौटंकी से साधने की साजिश रची गई है - 


1) पहला लक्ष्य था, कि पाकिस्तान  ओबामा से भेंट के समय अधिकाधिक हथियार उगाह सके और कश्मीर मुद्दे पर ओबामा का साथ मिल सके। इसीलिए नवाज़ की भेंट के बाद यह थोड़ा ठण्डा पड़ गया था।  पर दोनों बातें नहीं हुईं । 

2) दूसरा इसका आपराधिक लक्ष्य अब है कि 'संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद' में भारत को स्थायी सदस्यता न मिल सके, क्योंकि ऐसा होना पाकिस्तान और चीन के हित में नहीं है।  

3) तीसरा लक्ष्य है जनवरी से पहले सरकार गिराने की साजिश; क्योंकि जनवरी में सुभाषचन्द्र बोस की फ़ाईलें सार्वजनिक करने की घोषणा हो चुकी है और नेहरू वंश के कलंक खुलने का डर सोनिया और कॉंग्रेस की नींद हराम किए है

इनके साथ ही  काले धन और कॉंग्रेस के काले काण्डों की कलई  भी खुलने जा रही है, गत दिनों ही 200 कंपनियों के एक ही मालिक ( कंपनियाँ विधिवत् काले धन को सफ़ेद बनाने का धंधा करती थी) वाले प्रकरण में सोनिया-राहुल का भी कम्पनी का मालिक होना प्रमाणित हो चुका है तो फन्दा गर्दन पर कस रहा है। इसलिए कोई सन्देह नहीं कि यह सारी नौटंकी कॉंग्रेस और देश के शत्रुओं के पक्ष में की जा रही है। निस्संदेह कॉंग्रेस की ओर से योजनापूर्वक इसके लिए इन पर दबाव भी बनाया गया होगा कि यदि ऐसा न किया तो तुम सब की करतूतें भी उजागर कर दी जाएँगी। इतिहास के साथ छेड़छाड़ में इतिहासकारों ने साथ दिया ही और देश के शीर्ष वैज्ञानिकों की एक-एक कर हुई हत्याओं के पीछे की साजिश में इन कॉंग्रेस के पिट्ठू वैज्ञानिकों की कुछ-न-कुछ सहयोगी भूमिका है ही। तो ऐसे अनेकानेक काले कारनामों में साथ होने का सत्य उजागर होने का डर स्पष्ट है। 

आशीष कुमार अंशु ने इन नौटंकीबाज अपराध-सहयोगी लेखकों की इस नौटंकी के बदले इनकी पुस्तकें वापिस करने का जो अभियान प्रारम्भ किया है,  वह उचित ही है, किन्तु इसमें हिन्दी के पाठक से अधिक सहयोग न मिलेगा क्योंकि अधिकांश पुस्तकें सरकारी खरीद और विश्वविद्यालयों, संस्थाओं आदि के पुस्तकालयों में उनके पैसे से खरीदी जाती हैं। पुस्तक लौटाने के लिए बेचारे आम पाठक को डाक खर्च का और भार आ जाएगा। इसलिए लौटाने की बजाय 'पुस्तक जलाओ' अभियान होना चाहिए। लोग बाग चुन-चुन कर इनकी और इनके समर्थकों की पुस्तकें जलाएँ और जलाए जाने के चित्र खींच कर सोशल मीडिया पर अपलोड करें। पुस्तकें जलाने वाली अपनी प्रत्येक पोस्ट के साथ सबसे पहले  #BookBurning और #CampaignAgainstAwardReturning का हैशटैग अवश्य लगाएँ  अर्थात् इसी प्रकार कॉपी-पेस्ट कर अवश्य लिखेँ ताकि यह एक अभियान बन सके।#KavitaVachaknavee

जर्मन क्यों?

इस समय केन्द्रीय विद्यालयों में जर्मन थोपने पर घमासान मचा हुआ है,  इसकी पृष्ठभूमि की भीतरी जानकारी रखने वाले जर्मन साहित्य के मर्मज्ञ प्रो. अमृत मेहता ने अपना यह आलेख हमें उपलब्ध कराया है - 




जर्मन क्यों?
- डॉ. अमृत मेहता 


इस प्रश्न का उत्तर देने से पहले मैं यह स्पष्ट करना चाहूँगा कि मैं जर्मन भाषा तथा साहित्य का अदम्य समर्थक हूँ, और अब तक मुझ द्वारा अनूदित 72 साहित्यिक कृतियों में से 66 का अनुवाद जर्मन से किया गया है।  हिंदी मेरी मातृभाषा है, इसका प्रमाण इसी में है कि 72 में से 70 कृतियों मे लक्ष्य भाषा हिंदी रही है, और दो में पंजाबी। अब तक मैं 208 जर्मनभाषी लेखकों की कृतियों का जर्मन से हिंदी में अनुवाद कर चुका हूँ, और कुल मिला कर 222 जर्मनभाषी लेखकों के पाठ प्रकाशित कर चुका हूँ।  काफ़ी हद तक अपना धन लगा कर भी।  अपनी पत्रिका “सार संसार” के माध्यम से मैंने 72 ऐसे नए अनुवादकों को जन्म दिया है, जो विदेशी भाषाओँ से सीधे हिंदी में अनुवाद करते हैं, जिनमें से 16 जर्मन-हिंदी अनुवादक हैं।  पूरे विश्व में इन आंकड़ों के बराबर कोई नहीं पहुँचा, और यह वक्तव्य मैं पूरी ज़िम्मेदारी से दे रहा हूँ। 


भारत के केंद्रीय विद्यालयों में तीसरी भाषा के स्थान पर केवल जर्मन को सुशोभित करना एक दुर्भाग्यपूर्ण प्रकरण है, और जिस तरह से इस भाषा को भारतीय बच्चों पर लादा गया है, वह न केवल असंवैधानिक है, बल्कि इस से यह भी उजागर होता है कि भारत को स्वयं में इतना ढीला-ढाला देश माना जाता है कि यहाँ पर कोई भी विदेशी शक्ति जो चाहे करवा सकती है, चाहे घूस के बल पर अथवा बहला-फुसला कर।  इस प्रकरण में कौन सा तरीका अपनाया गया है, यह तथ्यों की गहराई में जाने से मालूम पड़ सकता है। 


यह मामला 2014 में मानव संसाधन मंत्री सुश्री स्मृति ईरानी की सतर्कता से उजागर हुआ है, परन्तु तीन वर्ष में कुछ लोग इस सन्दर्भ में जो करने में सफल हुए हैं, वह हमारी शासन प्रणाली पर एक गंभीर प्रश्न-चिन्ह है।  मैं 2009 से जानता हूँ कि कोई संदिग्ध खिचड़ी पक रही थी, परन्तु मेरी जानकारी में केवल इतना ही था कि हिंदी तथा अन्य भारतीय भाषाओँ के अस्तित्व पर कुठाराघात करके कुछ जर्मनभाषी सांस्कृतिक दूत अंग्रेज़ी को भारत की मुख्य भाषा सिद्ध करने पर तुले हुए थे।  मैंने इसका जम कर विरोध किया है, बहुत कुछ लिखा है इस बारे में, और मुझे इसकी काफ़ी क़ीमत भी चुकानी पड़ी है। जर्मन का वर्चस्व जिस तरह से सरकारी स्कूलों में स्थापित किया जा रहा था, वह जुड़ा इसी सन्दर्भ से था, परन्तु मुझे यही भ्रम रहा कि यह भारत सरकार की इच्छा से हो रहा है, एक नीतिगत निर्णय है, अतः इसका विरोध करना निरर्थक होगा। 


2009 में मैं बर्लिन के साहित्य-सम्मेलन की ग्रीष्म-अकादमी में हिस्सा ले रहा था, जहाँ जर्मनी के अनेकों प्रकाशक तथा गोएथे-संस्थान के लोग भी उपस्थित थे।  सब मुझ से पूछ रहे थे कि क्या मैं नवीन किशोर को जानता हूँ।  किशोर कोलकाता के सीगल्ल-बुक्स-प्रकाशन के मालिक हैं, और तब तक अपना व्यापार लन्दन से चला रहे थे, क्योंकि वह पुस्तकें अंग्रेज़ी की प्रकाशित करते हैं।  सब मुझे बता रहे थे कि वे किशोर से मिलने कोलकाता जा रहे थे।  कारण पूछने पर मुझे बताया गया कि आगे से वे बहुत-सी जर्मन पुस्तकों के अंग्रेज़ी अनुवाद भारत से ही करवा कर वहीँ प्रकाशित करवाया करेंगे। यह एक बहुत ही चौंका देने वाली सूचना थी।  मेरे यह कहने पर कि कोई भी भारतीय जर्मन साहित्य का अनुवाद अंग्रेज़ी में कर पाने में समर्थ नहीं होगा, और वैसे भी अज्ञात जर्मन लेखकों की पुस्तकें पढ़ने में भारतीय दिलचस्पी नहीं लेंगे तो मुझ पर यह कह कर हँसा गया कि हर भारतीय अंग्रेज़ी जानता है, और मैं उन्हें भ्रमित कर रहा हूँ।  उनके इस विश्वास की पृष्ठभूमि में भारत में कुछ वर्षों से कतिपय सांस्कृतिक दूतों द्वारा चलाया रहा एक अंग्रेज़ी-समर्थक अभियान था।  इस बारे में मैं वेबज़ीन “सृजनगाथा” में मई 2010 में प्रकाशित अपने एक बहुचर्चित आलेख में विस्तार से लिख चुका हूँ।  यह भी कि मैंने जर्मनी के एक प्रमुख प्रकाशन “ज़ूअरकांप फर्लाग”  की प्रमुख पेट्रा हार्ट को एक मेल लिख कर अपना कड़ा विरोध जताया था तो उन्होंने मुझे जवाब में लिखा था कि ये पुस्तकें केवल अंग्रेज़ीभाषी देशों, जैसे अमरीका तथा इंगलैंड के लिए हैं, इन्हें छपवाया भारत में जायेगा, बेचा विदेश में जायेगा, और इनका अनुवाद भी अँगरेज़ करेंगे।  पेट्रा एक सीधी-सच्ची महिला हैं और उनके कथन में सत्य था.. जर्मन से अंग्रेज़ी में अनूदित, भारत में प्रकाशित पुस्तकें भारत में उपलब्ध नहीं हैं, अंग्रेज़ीभाषी देशों में ही बेचीं जा रही हैं।  इसका सीधा सा मतलब है: भारत में पुस्तकें सस्ती छपती हैं, तो इस से प्रकाशकों का मुनाफ़ा कई गुणा बढ़ जाता है।  परन्तु इसका चिंताजनक पहलू यह रहा कि इसके साथ ही भारत में, विशेषकर गोएथे संस्थान द्वारा, एक हिंदी-विरोधी अभियान भी शुरू हो गया, जिसके अंतर्गत, एक जर्मनभाषी सांस्कृतिक दूत के शब्दों में:  “दिल्ली से बाहर कदम रख कर देखो तो कोई भी हिंदी नहीं बोलता.” इस अज्ञान को क्षमा करने का कोई कारण नहीं है, लेकिन इसके मंतव्य को समझते हुए यह निस्सहाय रोष को जन्म देने वाला एक वक्तव्य है।  बहरहाल यह समझ में आने वाली बात है कि वैश्वीकरण के इस युग में कोई कम लागत में किसी दूसरे देश के सस्ते कामगारों का लाभ उठा रहा है, जबकि इस सांस्कृतिक दूत का कथन था कि वे यहाँ पर लोगों को रोज़गार उपलब्ध करवा रहे हैं.


लेकिन अभी तक जो एकदम अबोधगम्य रहा है, वह है भारत के संविधान की अवहेलना करते हुए जर्मन को भारत में बढ़ावा देना।  इससे क्या मिलने वाला है जर्मनी को, या किसी अन्य जर्मनभाषी देश, अर्थात आस्ट्रिया अथवा स्विट्ज़रलैंड को? उनके लिए भारतीय बच्चों को जर्मन सिखाना क्या इतना अधिक महत्व रखता है कि उन्होंने चुपचाप मानव संसाधन मंत्रालय को नज़रंदाज़ करते हुए गुप-चुप केन्द्रीय विद्यालय संगठन से इकरारनामा कर डाला और उसके बाद प्रति वर्ष लाखों यूरो जर्मन के प्रचार-प्रसार पर खर्च करते रहे।  यह तर्क किसी के गले नहीं उतरने वाला कि जर्मन सरकार चाहती है कि भारत के प्रतिभाशाली छात्र इससे जर्मन विश्वविद्यालयों में शिक्षा पाने को आतुर हो जायेंगे।  स्कूल में पढ़ी जर्मन बड़े होने के बाद कहाँ बची रह जाती है? मेरे छोटे बेटे ने स्कूल में तीसरी भाषा के तौर पर फ्रेंच ली थी, और अब वह ‘कोमा ताले वू?’ (कैसे हो?) के अलावा और कोई वाक्य नहीं जानता। मेरे ज्येष्ठ पुत्र ने कॉलेज में पढ़ते हुए गोएथे-संस्थान से दो सत्र में जर्मन सीखी थी, अपनी कक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त किया था उसने, लेकिन अब वह “शुभ प्रातः” या “शुभ संध्या” तक ही सिमट कर रह गया है।  एक तर्क और है कि अभी तक जर्मन की शिक्षा केवल निजी स्कूलों के बच्चों तक, अर्थात अमीर बच्चों तक ही सीमित रही है, और केंद्रीय विद्यालयों में इसे लगा कर गरीब बच्चों के लिए जर्मन भाषा की शिक्षा उपलब्ध करवाई जा रही है, जो स्वयं में एक बहुत बड़ी ग़लतफ़हमी है, 20/11/14 को समाचारपत्रों में निकली एक खबर के अनुसार हमारे सांसद इन विद्यालयों में प्रति वर्ष 15 सीटों का कोटा अपने बच्चों के लिए आरक्षित करवाना चाहते हैं, इसी से मालूम पड़ जाता है कि इन विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चे कितने गरीब हैं।  न जाने ऐसा कितना अज्ञान इनके आसपास घूमने वाले अंग्रेजीदाँ हिंदुस्तानियों ने इनके भेजे में भर दिया है कि ये लोग अपनी नाक के आगे ज़्यादा दूर तक नहीं देख पाते। 


कुल मिला कर यह एक अचरज में डालने वाला विषय है कि क्या जर्मन का भारतीय स्कूलों में पढ़ाया जाना गोएथे संस्थान या जर्मन दूतावास के या जर्मन सरकार के लिए इतना गंभीर विषय है कि उसके लिए संदिग्ध प्रणाली से एक समझौता करना, पानी की तरह पैसा बहाना तथा जर्मन चांसलर मैडम मेर्केल का भारतीय प्रधानमंत्री से एक महत्वपूर्ण शिखर सम्मेलन के दौरान बात करना अनिवार्य हो गया? किसी भी जर्मन या भारतीय नागरिक के लिए यह गोरखधंधा अबोधगम्य ही रहेगा।  सुप्रसिद्ध साहित्यकार ई.एम.फोस्टर ने एक बार कहीं लिखा था: If I had to choose between betraying my country and betraying my friend, I hope I should have the guts to betray my country, अर्थात यदि मेरे सामने अगर दुविधा हो कि मैं देश से गद्दारी करूँ या दोस्त से, तो उम्मीद रखता हूँ कि मुझमें देश से गद्दारी करने का साहस होगा.


जर्मनों तथा जर्मनभाषियों से मेरा संपर्क तथा मेरे सम्बन्ध गत 41 वर्षों से हैं, और मैं भली-भांति जानता हूँ कि जर्मेनिक नस्ल दोस्ती निभाने के मामले में मिसालें क़ायम कर सकती है, पर देश से गद्दारी? ...मैं सोच भी नहीं सकता था, परन्तु इस प्रकरण में कहीं जा कर यह उक्ति इन के सन्दर्भ में सार्थक प्रतीत होती है। यह तो मैं गत 15 वर्षों से जानता हूँ कि ये लोग भारतीय दोस्तों द्वारा बरगलाये जाने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। 


गोएथे-संस्थान दशकों से भारत में निरंकुशता से जर्मन-भारतीय भाषा अनुवाद क्षेत्र में निरीह हिंदी पाठकों पर जर्मन साहित्य के घटिया अनुवाद थोप रहा है। विष्णु खरे इसके आधिकारिक अनुवादक रहे हैं, जो खुद मानते हैं कि उनका जर्मन-ज्ञान अल्प है।  संस्थान हिंदी में उत्तम अनुवाद नहीं होने देता, अगर कोई करता है तो उसे प्रताड़ित करता है, उससे उसके प्रकाशक छीन लेता है, अपने दोस्तों को प्रकाशकों पर थोप देता है, कि इनसे अनुवाद करवाओ।  जब उनके अनुवाद ऐसे होते हैं कि हिंदी पाठक उन्हें पढ़ते हुए अपना माथा पीट ले, तो भी प्रकाशक के साथ ज़बरदस्ती की जाती है कि उसे वही अनुवाद छापने होंगे।  यह उनके अपने साहित्य का अपमान नहीं है तो क्या है? इस विषय पर जर्मनी तथा आस्ट्रिया की दो शोध-पत्रिकाओं में मैं जर्मन भाषा में 14-15 पृष्ठों का एक विस्तृत लेख प्रकाशित कर चुका हूँ।  खेद का विषय है कि मुझे इस प्रवृत्ति को कड़े शब्दों में लताड़ना पड़ा है; किसी प्रश्न का कोई उत्तर तो इनके पास नहीं है, लेकिन लोगों से निजी वार्तालापों में इसके अधिकारी मेरे प्रति अपनी आक्रोश जताते रहते हैं।  इनकी निरंकुशता अब इस हद तक बढ़ चुकी है कि ये अनधिकृत रूप से देश से संस्कृत तथा अन्य भारतीय भाषाएँ मिटा कर जर्मन को स्थापित करने कि लिए दशकों से बने मधुर भारत-जर्मन संबंधों में दरार लाने पर भी उतारू हो गए हैं। 


बात जर्मनों के जिगरी दोस्त होने की हो रही थी।  50 वर्ष से अधिक समय से गोएथे-संस्थान का एक जिगरी दोस्त प्रमोद तलगेरी नाम का एक जर्मन पढ़ाने वाला प्रोफ़ेसर रहा है।  जर्मन भाषा और साहित्य के मामले में यह हमेशा उनका प्रमुख परामर्शदाता रहा है।  गत कुछ वर्ष ऐबरहार्ट वेल्लर संस्थान की दक्षिण एशिया-शाखा के भाषा-विभाग के प्रमुख रहे थे। उनके कार्यकाल के दौरान भारतीय विश्वविद्यालयों में जर्मन के वही शिक्षक फले-फूले, जो वेल्लर तथा तलगेरी की युगल-जोड़ी को दंडवत प्रणाम करते रहे। ...  और ये उन्हें बार-बार जर्मनी की सैर करवाते रहे.. लेकिन वेल्लर के ज़माने में भारत में जर्मन भाषा ख़ूब फली-फूली, भले ही इसकी उन्नति के तौर-तरीके संदिग्ध थे।  इन्हीं के ज़माने में हिंदी के प्रति संस्थान की शत्रुता खुल कर प्रकट हुई।  इन्होने देश के कई कोनों में जर्मन सेंटर खुलवाए, अपने पिच्छ्लग्गुओं को वहाँ नियुक्त कर दिया।  एक उदाहरण ही इनकी कार्यविधि को स्पष्ट करने के लिए पर्याप्त होगा।  इन्होंने चंडीगढ़ के सेक्टर 34 में एक गोएथे-सेंटर खुलवाया, जिसे पूरे उत्तर भारत में जर्मन भाषा सीखने के लिए एकमात्र सेंटर का दर्ज़ा प्रदान किया गिया, और जिसके बारे में घोषणा की गई कि दिल्ली की इंदिरा गाँधी ओपन यूनिवर्सिटी की भागीदारी इसके साथ होगी।  यहाँ उल्लेखनीय है कि इस निजी-सेंटर के कर्ता-धर्ता निदेशक सिर्फ़ एम.ए. हैं, तथा किसी कॉलेज या यूनिवेर्सिटी में शिक्षक की नौकरी नहीं पा सके, क्योंकि यू.जी.सी. की नेट परीक्षा पास नहीं कर सके, परन्तु, यदि हम वेल्लर के शब्दों पर विश्वास करें तो इन्हें – वेल्लर तथा तलगेरी की कृपा से - एक प्रतिष्ठित राष्ट्रीय यूनिवर्सिटी के प्रोफ़ेसर का दर्ज़ा इन्हें संभवतः मिल चुका है।  यह अनिवार्य है कि जाँच की जाये: क्या इंदिरा गाँधी ओपन यूनिवर्सिटी से भी गोएथे-संस्थान ने ऐसा कोई अवैध समझौता किया है? यह स्वतःस्पष्ट है कि भारत में जर्मन का प्रचार-प्रसार बढ़ाने से वेल्लर की प्रतिष्ठा गोएथे-संस्थान के म्यूनिख मुख्यालय में बढ़ी और तलगेरी की जर्मन दूतावास इत्यादि में ; और इस प्रतिष्ठा की दरकार तलगेरी को बहुत बुरी तरह से थी। 


गोएथे-संस्थान, जर्मन दूतावास तथा अन्य जर्मनभाषी देशों के दूतावासों के घनिष्ठ मित्र प्रमोद तलगेरी भारत सरकार के अपराधी हैं, अतः इन्हें भारतीय यूनिवर्सिटी सिस्टम से बहिष्कृत किया जा चुका है और मानव संसाधन मंत्रालय ने केन्द्रीय सतर्कता आयोग के आदेश पर एक यूनिवर्सिटी में इनके भ्रष्टाचार के मामलों को दृष्टिगत रखते हुए भारत सरकार की कड़ी नाराज़गी इनके प्रति प्रकट की है। यह कभी हैदराबाद में एक केन्द्रीय विश्वविद्यालय के उपकुलपति होते थे, और अब अपने आप को इंडिया इंटरनेशनल मल्टीवेर्सिटी, पुणे, का उपकुलपति बताते हैं। वास्तव में यह “वेर्सिटी” न तो “यूनिवर्सिटी” है, न ही “इंटरनेशनल” है, और न ही यह इसके उपकुलपति हैं।  जर्मनों के यह घनिष्ट मित्र दशकों से मक्कारियों और घोटालों के लिए जाने जाते रहे हैं, और स्वयं पर हाल में हुए कुठाराघात से निज़ात पाने के लिए इनके लिए अपने मित्रों के लिए कुछ नया करना अनिवार्य था।  यह फ़रवरी 2014 में “अपनी यूनिवर्सिटी” में जर्मन, स्विस तथा आस्ट्रियाई दूतावास के सहयोग से “भारत में जर्मन के शिक्षण” के सौ वर्ष की जयंती” बड़ी धूमधाम से मनाने वाले थे।  मुझे जब यह सूचना स्विस दूतावास की सांस्कृतिक सचिव, ज़ारा बेरनास्कोनी, से मिली कि तीनों दूतावास इंडिया इन्टरनेशनल मल्टीवेर्सिटी में जा कर यह समारोह आयोजित करने जा रहे हैं तो मैंने उन्हें सच्चाई से परिचित करवाया. वह आश्चर्यचकित हुईं और उन्होंने मेरे कथन पर विश्वास नहीं किया।  मैनें उन्हें कोरिएर से प्रमाण भेजे तो उन्हें यकीन आया।  ये सब प्रमाण इन्टरनेट पर उपलब्ध हैं।  तथ्य ये हैं -  :  

वेर्सिटी का पता कहीं पर कुछ है, कहीं कुछ और है, कुछ पता नहीं कि यह कब स्थापित हुई थी, 2000 से 2012 तक कई तारीखें हैं इसमें, वेर्सिटी में छात्रों की संख्या: 0, शिक्षकों की संख्या: 0, कमरों की संख्या: 0, कम्प्यूटरों की संख्या: 0, कुछ भी नहीं वहाँ पर, कुल मिला कर वेर्सिटी के पास 6,36,122 रूपये का बजट है, जो उन्हें किसी ने दान में दिये हैं, जिस में से 5,40,000रूपये कर्मचारियों में बाँटे गए हैं।  वेर्सिटी को न तो विश्वविद्यालय अनुदान आयोग और न ही तकनीकी शिक्षा परिषद से मान्यता प्राप्त है, जो हर सही यूनिवर्सिटी के लिए अनिवार्य होती है।  कहीं पर इसे कॉलेज बताया गया है, कहीं एक वाणिज्यिक संस्था, कहीं कल्याणकारी संस्था और कहीं गैर-सरकारी संगठन के रूप में इसका परिचय दिया गया है; विकिपीडिया में इसे एक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी बताया गया है, जिसे तलगेरी चला रहे हैं।  और कि इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी एक ग्रामीण यूनिवर्सिटी है, प्रमोद तलगेरी जिसके “Appily Adhikari” और “Principal” हैं।  स्विस राजदूत लीनुस फॉन कास्टेलमूर को भी मैंने आगाह किया कि ऐसे व्यक्तियों से बच कर रहें।  यथासंभव जर्मन से जुड़े हर व्यक्ति को देश-विदेश में आगाह किया।  समारोह अंततः पुणे यूनिवर्सिटी में संपन्न हुआ, वहाँ जर्मन राजदूत मिषाएल श्टाइनर ही उपस्थित थे, परन्तु उन्होंने तलगेरी को उनके सहयोग के लिए धन्यवाद अवश्य दिया.... और सबसे अधिक हैरत की बात यह है कि इसी वर्ष अप्रैल में गोएथे-संस्थान ने तलगेरी को भारत तथा जर्मनी के मध्य सांस्कृतिक तथा साहित्यिक संबंधों को असाधारण प्रोत्साहन देने के लिए मेर्क-टैगोर पुरस्कार से सम्मानित किया है।  स्पष्ट है कि किस लिए दिया गया है यह सम्मान!


प्रमोद तलगेरी और गोएथे-संस्थान अर्थात माक्स-म्युलर भवन में, जैसा कि मैं बता चुका हूँ, हमेशा प्रगाढ़ सम्बन्ध रहे हैं, और कांग्रेस सरकार में भी तलगेरी की गहरी पहुँच थी, जिस कारण यह गुप-चुप क़रार सम्भव हुआ है। आधिकारिक तौर पर तलगेरी इंडाफ (भारतीय-जर्मन शिक्षक संघ) के अध्यक्ष हैं, इन्होने ही अवश्य दोनों पक्षों में इस अवैध समझौते को सम्भव बनाया है।  गोएथे-संस्थान की दिसंबर 2011 की यह विज्ञप्ति प्रमाण है तलगेरी कि गतिविधियों का :

“Destination Deutsch” was the slogan of the first Asian conference for German teachers. It took place in New Delhi from 3-5 December 2011, organized by the Indian German Teachers Association (InDaF) and the International German Teachers Association (IDV). Marianne Hepp, IDV president, was delighted to address more than 350 participants. This translates into the biggest regional conference in IDV history. The German ambassador noticed that there were not enough seats for everybody in the multi-purpose hall. The host and president InDaF Professor Pramod Talgeri, announced proudly: “This is a big moment for us.”


कई बार तो पता नहीं चलता कि इनकी निष्ठा भारत के प्रति है या जर्मनी के प्रति।  जर्मन दूतावास की 17/11/2009 की एक प्रेस विज्ञप्ति में तलगेरी को जर्मनी के प्रान्त बाडेन व्युर्त्तेमबेर्ग के मुख्यमंत्री ग्युंटर एच. अयोत्तिन्गेर के साथ आये प्रतिनिधिमंडल का सदस्य बताया गया है।  यदि जर्मन हमारे देश में अपनी भाषा के प्रचार-प्रसार के लिए दम लगते हैं तो यह एक स्वाभाविक बात है, यह उनका काम है, परन्तु यदि एक भारतीय के षड्यंत्र के कारण वैश्विक स्तर पर एक कूटनीतिक संकट की स्थिति आन खड़ी हो, जिसमें दो देशों मे सम्बन्ध बिगड़ जाने का खतरा हो, तो ऐसे अपराधी को देशद्रोह का दंड मिलना चाहिए। 


इससे पहले भी तलगेरी अनगिनत घोटाले कर चुके हैं, जिनका विवरण मैं यहाँ स्थानाभाव के कारण नहीं दूँगा, परन्तु इनके बारे में मैं बहुत कुछ पहले भी लिख चुका हूँ, इन घोटालों में भारत सरकार तथा अन्य कई संस्थाओं को ठगा गया था।  परन्तु यू.पी.ऐ. सरकार के समय में इन पर कोई कार्रवाई नहीं हुई। 


संक्षेप में,  वेल्लर का काम था भारत में जर्मन सीखने वाले छात्रों में वृद्धि करना, वह उसने किया, तलगेरी का काम था अपने कलंक को छुपाना, वह उसने किया, और म्यूनिख और भारत के गोएथे-संस्थान ने अपनी दोस्ती निभाई, अपनी भाषा तथा साहित्य की क़ीमत पर।  मुझे और कोई कारण नज़र नहीं आता इस गौण समस्या को इतना तूल देने का कि जर्मन प्रधानमंत्री को इस में हस्तक्षेप करना पड़े। 


वैसे वेल्लर तथा तलगेरी ने मिल कर यदि भारत में जर्मन भाषा सीखने वालों की संख्या में भारी वृद्धि की तो उसमें पैसे का बड़ा हाथ था।  शिक्षिका ने अभी पढाना शुरू ही किया और बच्चों ने सीखना तो उन्हें फटाफट जर्मनी की सैर करा दी।  स्कूली बच्चों पर इस तरह गैर-क़ानूनी रूप से तीसरी भाषा के रूप में जर्मन थोपना हास्यास्पद तथा अनर्गल है, क्या कोई कल्पना कर सकता है कि भारतीय इस तरह जर्मनी या किसी अन्य यूरोपीय देश में जा कर हिंदी या तमिल वहाँ के स्कूलों पर थोप सकते हैं?


देखा जाये तो केंद्रीय विद्यालय संगठन ने गोएथे-संस्थान से उक्त समझौता कर के अपने देश, अपनी भाषा के प्रति निष्ठा नहीं दिखाई।  त्रिभाषी सूत्र का मुख्य उद्देश्य था देश के सभी भाषाई क्षेत्रों को भावनात्मक स्तर पर एक दूसरे से जोड़ना, और यदि छात्र उत्तर में संस्कृत को वरीयता देते हैं तो भी यह उद्देश्य पूरा होता है. आखिरकार जर्मनी और दूसरे यूरोपीय देशों में भी तो बच्चे लातिन सीखते हैं।  यह एक कसौटी पर कसा तथ्य है कि लातिन सीखने वाले बच्चे यूरोप की किसी अन्य भारोपीय भाषा में आसानी से महारत प्राप्त कर सकते हैं। वही बात संस्कृत में है, जो न भारत की हर इन्डो-यूरोपीय भाषा से, बल्कि कन्नड़ और तेलुगु जैसी द्रविड़ भाषाओँ से भी छात्रों को जोड़ती है।  संस्कृत प्राचीन ग्रीक की माँ है, जो लातिन की माँ है, और जो भारत-जेर्मैनिक, भारत-आर्य, भारत-रोमांस तथा भारत-स्लाव भाषाओँ की माँ है।  इस में विरोध काहे का! हर भारोपीय भाषा में संस्कृत के शब्दों की भरमार है, अतः बेहतर होगा कि दोनों सम्बन्धी देश अपने-अपने देश में अपनी-अपनी भाषा के लिए काम करें तथा भाषा के नाम पर एक दूसरे की भावनाओं से खिलवाड़ न करे। 


शौकिया तौर पर जर्मन सिखाए जाने देने का भारत सरकार का निर्णय उचित है।  जर्मनी को भी चाहिए कि वह वहाँ संध्याकालीन-क्लासों में हिंदी पढाये जाने का इंतजाम करें। 


इस सन्दर्भ में मुझे अंग्रेज़ी मीडिया की भूमिका हर तरह से संदिग्ध लगती है।  बिना मामले की गहराई में गए जर्मन के पक्ष में सम्पादकीय तक लिख मारने में उनकी नीयत पर शक होना स्वाभाविक है।  



सम्मानित हुए साहित्यकार



उत्तर प्रदेश हिन्दी संस्थान सहित प्रत्येक ज्ञात-अज्ञात के प्रति आभार सहित 



मुखपृष्ठ, दैनिक जागरण 1/11/2014 

पृष्ठ 4, दैनिक जागरण 1/11/2014 

महर्षि दयानन्द, आर्य समाज और हिन्दी

हिन्दी दिवस पर विशेष 

‘महर्षि दयानन्द और आर्य समाज का हिन्दी के प्रचार-प्रसार में योगदान’

- मनमोहन कुमार आर्य



भारतवर्ष के इतिहास में महर्षि दयानन्द पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने अहिन्दी भाषी गुजराती होते हुए पराधीन भारत में सबसे पहले राष्ट्रीय एकता एवं अखण्डता के लिए हिन्दी को सर्वाधिक महत्वपूर्ण जानकर मन, वचन व कर्म से इसका प्रचार-प्रसार किया। उनके प्रयासों का ही परिणाम था कि हिन्दी, जिसे स्वामी दयानन्द जी ने आर्यभाषा का नाम दिया, शीघ्र लोकप्रिय हो गई। स्वतन्त्र भारत में संविधान सभा द्वारा 14 सितम्बर 1947 को सर्वसम्मति से हिन्दी को राजभाषा स्वीकार किया जाना भी स्वामी दयानन्द के इससे 77 वर्ष पूर्व आरम्भ किए गये कार्यों का ही सुपरिणाम था।


प्रसिद्ध हिन्दी साहित्यकार विष्णु प्रभाकर हमारे राष्ट्रीय जीवन के अनेक पहलुओं पर स्वामी दयानन्द का अक्षुण्ण प्रभाव स्वीकार करते हैं और हिन्दी पर साम्राज्यवादी होने के आरोपों को अस्वीकार करते हुए कहते हैं कि यदि साम्राज्यवाद शब्द का हिन्दी वालों पर कुछ प्रभाव है भी, तो उसका सारा दोष अहिन्दी भाषियों का है। इन अहिन्दीभाषियों का अग्रणीय वह स्वामी दयानन्द को मानते हैं और लिखते हैं कि इसके लिए उन्हें प्रेरित भी किसी हिन्दी भाषी ने नहीं अपितुं एक बंगाली सज्जन श्री केशव चन्द्र सेन ने किया था।



स्वामी दयानन्द का जन्म 14 फरवरी, 1825 को गुजरात राज्य के राजकोट जनपद में होने के कारण गुजराती उनकी स्वाभाविक रूप से मातृभाषा थी। उनका अध्ययन-अध्यापन संस्कृत में हुआ। इसी कारण वह संस्कृत में ही वार्तालाप, व्याख्यान, लेखन, शास्त्रार्थ, शंका-समाधान आदि किया करते थे। 16 दिसम्बर, 1872 को स्वामीजी वैदिक मान्यताओं के प्रचारार्थ भारत की तत्कालीन राजधानी कलकत्ता पहुंचे थे और वहां उन्होंनें अनेक सभाओं में व्याख्यान दिये। ऐसी ही एक सभा में स्वामी दयानन्द के संस्कृत भाषण का बंगला में अनुवाद गवर्नमेन्ट संस्कृत कालेज, कलकत्ता के उपाचार्य पं. महेशचन्द्र न्यायरत्न कर रहे थे। दुभाषिये वा अनुवादक का धर्म वक्ता के आशय को स्पष्ट करना होता है परन्तु श्री न्यायरत्न महाशय ने स्वामी जी के वक्तव्य को अनेक स्थानों पर व्याख्यान को अनुदित न कर अपनी उनसे विपरीत मान्यताओं को सम्मिलित कर वक्ता के आशय के विपरीत प्रकट किया जिससे व्याख्यान में उपस्थित संस्कृत कालेज के छात्रों ने उनका विरोघ किया। विरोध के कारण श्री न्यायरत्न बीच में ही सभा छोड़कर चले गये थे। प्रसिद्ध ब्रह्मसमाजी नेता श्री केशवचन्द्र सेन भी इस सभा में उपस्थित थे। बाद में इस घटना का विवेचन कर उन्होंने स्वामी जी को सुझाव दिया कि वह संस्कृत के स्थान पर लोकभाषा हिन्दी को अपनायें। गुण ग्राहक स्वाभाव वाले स्वामी दयानन्द जी ने तत्काल यह सुझाव स्वीकार कर लिया। यह दिन हिन्दी के इतिहास की एक प्रमुख घटना थी कि जब एक 48 वर्षीय गुजराती मातृभाषा के संस्कृत के अद्वितीय विद्वान ने हिन्दी को अपना लिया। ऐसा दूसरा उदाहरण इतिहास में अनुपलब्ध है। इसके पश्चात महर्षि दयानन्द जी ने जो प्रवचन किए उनमें वह हिन्दी का ही प्रयोग करने लगे।



सत्यार्थ प्रकाश स्वामीजी की प्रसिद्ध रचना है जो देश-विदेश में विगत 139 वर्षों से उत्सुकता एवं श्रद्धा से पढ़ी जाती है। फरवरी, 1872 में हिन्दी को स्वीकार करने के लगभग 2 वर्ष पश्चात ही स्वामीजी ने 2 जून 1874 को उदयपुर में इसका प्रणयन आरम्भ किया और लगभग 3 महीनों में पूरा कर डाला। श्री विष्णु प्रभाकर इतने अल्प समय में स्वामीजी द्वारा हिन्दी में सत्यार्थ प्रकाश जैसा उच्च कोटि का ग्रन्थ लिखने पर इसे आश्चर्यजनक घटना मानते हैं। सत्यार्थ प्रकाश के पश्चात वेदों एवं वैदिक सिद्धान्तों के प्रचारार्थ स्वामीजी ने अनेक ग्रन्थ लिखे जो सभी हिन्दी में हैं। उनके ग्रन्थ उनके जीवनकाल में ही देश की सीमा पार कर विदेशों में भी लोकप्रिय हुए। विश्वविख्यात विद्वान प्रो. मैक्समूलर ने स्वामी दयानन्द की पुस्तक ऋग्वेदादिभाष्य भूमिका पढ़कर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करने हुए लिखा कि वैदिक साहित्य का आरभ ऋग्वेद से एवं अन्त स्वामी दयानन्द जी की ऋग्वेदादिभाष्य भूमिका पर होता है। स्वामी दयानन्द के सत्यार्थ प्रकाश एवं अन्य ग्रन्थों को इस बात का गौरव प्राप्त है कि धर्म, दर्शन एवं संस्कृति जैसे क्लिष्ट विषय को सर्वप्रथम उनके द्वारा हिन्दी में प्रस्तुत कर उसे सर्वजनसुलभ किया जबकि इससे पूर्व इस पर संस्कृत निष्णात ब्राह्मण वर्ग का ही अधिकार था जिसने इन्हें संकीर्ण एवं संकुचित कर दिया था। यह उल्लेखनीय है कि 'ऋग्वेदादि भाष्य भूमिका' संस्कृत व हिन्दी दोनों भाषाओं में है। दोनों भाषाओं के देवनागरी लिपि में होने के कारण प्रो. मैक्समूलर व इस ग्रन्थ के अन्य पाठकों व विद्वानों का हिन्दी से परिचय हो गया था। हिन्दीतर संस्कृत विद्वानों को हिन्दी से परिचित कराने हेतु स्वामी दयानन्द जी की यह अनोखी सूझ महत्वपूर्ण एवं अनुकरणीय है। इसी पद्धति को उन्होंने अपने वेद भाष्य में भी अपनाया है।



थियोसोफिकल सोसासयटी की नेत्री मैडम बैलेवेटेस्की ने स्वामी दयानन्द से उनके ग्रन्थों के अंग्रेजी अनुवाद की अनुमति मांगी तो स्वामी दयानन्द जी ने 31 जुलाई 1879 को विस्तृत पत्र लिख कर उन्हें अनुवाद से हिन्दी के प्रचार-प्रसार एवं प्रगति में आने वाली बाधाओं से परिचित कराया। स्वामी जी ने लिखा कि अंग्रेजी अनुवाद सुलभ होने पर देश-विदेश में जो लोग उनके ग्रन्थों को समझने के लिए संस्कृत व हिन्दी का अध्ययन कर रहे हैं, वह समाप्त हो जायेगा। हिन्दी के इतिहास में शायद कोई विरला ही व्यक्ति होगा जिसने अपनी हिन्दी पुस्तकों का अनुवाद इसलिए नहीं होने दिया जिससे अनुदित पुस्तक के पाठक हिन्दी सीखने से विरत होकर हिन्दी प्रसार में बाधक हो सकते थे।



हरिद्वार में एक बार व्याख्यान देते समय पंजाब के एक श्रद्धालु भक्त द्वारा स्वामीजी से उनकी पुस्तकों का उर्दू में अनुवाद कराने की प्रार्थना करने पर उन्होंने आवेश पूर्ण शब्दों में कहा था कि अनुवाद तो विदेशियों के लिए हुआ करता है। देवनागरी के अक्षर सरल होने से थोड़े ही दिनों में सीखे जा सकते हैं। हिन्दी भाषा भी सरल होने से आसानी से कुछ ही समय में सीखी जा सकती है। हिन्दी न जानने वाले एवं इसे सीखने का प्रयत्न न करने वालों से उन्होंने पूछा कि जो व्यक्ति इस देश में उत्पन्न होकर यहां की भाषा हिन्दी को सीखने में परिश्रम नहीं करता उससे और क्या आशा की जा सकती है? श्रोताओं को सम्बोधित कर उन्होंने आगे कहा, ‘‘आप तो मुझे अनुवाद की सम्मति देते हैं परन्तु दयानन्द के नेत्र वह दिन देखना चाहते हैं जब कश्मीर से कन्याकुमारी और अटक से कटक तक देवनागरी अक्षरों का प्रचार होगा।’’ इस स्वर्णिम स्वप्न के द्रष्टा स्वामी दयानन्द ने अपने ग्रन्थों में एक स्थान पर लिखा कि आर्यावत्र्त (भारत का प्राचीन नाम) भर में भाषा के एक्य सम्पादन करने के लिए ही उन्होंने अपने सभी ग्रन्थों को आर्य भाषा (हिन्दी) में लिखा एवं प्रकाशित किया है। अनुवाद के संबंध में अपने हृदय में हिन्दी के प्रति सम्पूर्ण प्रेम को प्रकट करते हुए वह लिखते हैं, ‘‘जिन्हें सचमुच मेरे भावों को जानने की इच्छा होगी, वह इस आर्यभाषा को सीखना अपना कर्तव्य समझेगें।’’ यही नहीं आर्य समाज के प्रत्येक सदस्य के लिए उन्होंने हिन्दी सीखना अनिवार्य किया था। भारतवर्ष की तत्कालीन अन्य संस्थाओं में हम ऐसी कोई संस्था नहीं पाते जहां एकमात्र हिन्दी के प्रयोग की बाध्यता रही हो।



सन् 1882 में ब्रिटिश सरकार ने डा. हण्टर की अध्यक्षता में एक कमीशन की स्थापना कर इससे राजकार्य के लिए उपयुक्त भाषा की सिफारिश करने को कहा। यह आयोग हण्टर कमीशन के नाम से जाना गया। यद्यपि उन दिनों सरकारी कामकाज में उर्दू-फारसी एवं अंग्रेजी का प्रयोग होता था परन्तु स्वामी दयानन्द के सन् 1872 से 1882 तक व्याख्यानों, पुस्तकों वा ग्रन्थों, शास्त्रार्थों तथा आर्य समाजों द्वारा मौखिक प्रचार एवं उसके अनुयायियों की हिन्दी निष्ठा से हिन्दी भी सर्वत्र लोकप्रिय हो गई थी। इस हण्टर कमीशन के माध्यम से हिन्दी को राजभाषा का स्थान दिलाने के लिए स्वामी जी ने देश की सभी आर्य समाजों को पत्र लिखकर बड़ी संख्या में हस्ताक्षरयुक्त ज्ञापन भेजने की प्ररेणा की और जहां से ज्ञापन नहीं भेजे गये उन्हें स्मरण पत्र भेज कर सावधान किया। आर्य समाज फर्रूखाबाद के स्तम्भ बाबू दुर्गादास को भेजे पत्र में स्वामी जी ने लिखा, ‘‘यह काम एक के करने का नहीं है और चूक (भूल-चूक) होने पर वह अवसर पुनः आना दुर्लभ है। जो यह कार्य सिद्ध हुआ (अर्थात् हिन्दी राजभाषा बना दी गई) तो आशा है कि मुख्य सुधार की नींव पड़ जायेगी।’’ स्वामीजी की प्रेरणा के परिणामस्वरूप आर्य समाजों द्वारा देश के कोने-कोने से आयोग को बड़ी संख्या में लोगों के हस्ताक्षर कराकर ज्ञापन भेजे गए। कानपुर से हण्टर कमीशन को दो सौ मैमोरियल भेजे गए जिन पर दो लाख लोगों ने हिन्दी को राजभाषा बनाने के पक्ष में हस्ताक्षर किए थे। हिन्दी को गौरव प्रदान करने के लिए स्वामी दयानन्द द्वारा किया गया यह कार्य भी इतिहास में अन्यतम घटना है। हमें इस सन्दर्भ में दुःख के साथ कहना पड़ रहा है कि हिन्दी के विद्वानों ने स्वामी दयानन्द के इस योगदान की जाने अनजाने घोर उपेक्षा की है। हमें इसमें उनके पक्षपातपूर्ण व्यवहार की गन्ध आती है। स्वामी दयानन्द की प्ररेणा से अनेक लोगों ने हिन्दी सीखी। इन प्रमुख लोगों में जहां अनेक रियासतों के राजपरिवारों के सदस्य हैं वहीं कर्नल एच.एस. आल्काट आदि विदेशी महानुभाव भी हैं जो इंग्लैण्ड में स्वामी जी की प्रशंसा सुनकर उनसे मिलने भारत आयै थे। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि शाहपुरा, उदयपुर, जोधपुर आदि अनेक स्वतन्त्र रियासतों के महाराजा स्वामी दयानन्द के अनुयायी थे और स्वामी जी की प्रेरणा पर उन्होंने अपनी रियासतों में हिन्दी को राजभाषा का दर्जा दिया था।

स्वामी दयानन्द संस्कृत व हिन्दी के अतिरिक्त अन्य भाषाओं का भी आदर करते थे। उन्होंने सत्यार्थ प्रकाश में लिखा है कि जब पुत्र-पुत्रियों की आयु पांच वर्ष हो जाये तो उन्हें देवनागरी अक्षरों का अभ्यास करायें, अन्यदेशीय भाषाओं के अक्षरों का भी। स्वामीजी अन्य प्रादेशिक भाषाओं को हिन्दी व संस्कृत की भांति देवनागरी लिपि में लिखे जाने के समर्थक थे जो राष्ट्रीय एकता की पूरक है। अपने जीवनकाल में हिन्दी पत्रकारिता को भी आपने नई दिशा दी। आर्य दर्पण (शाहजहांपुर: 1878), आर्य समाचार (मेरठ: 1878), भारत सुदशा प्रवर्तक (फर्रूखाबाद: 1879), देश हितैषी (अजमेर: 1882) आदि अनेक हिन्दी पत्र आपकी प्ररेणा से प्रकाशित हुए एवं पत्रों की संख्या में उत्तरोत्तर वृद्धि होती गई।



स्वामी दयानन्द ने हिन्दी में जो पत्रव्यवहार किया वह भी संख्या की दृष्टि से किसी एक व्यक्ति द्वारा किए गए पत्रव्यवहार में सर्वाधिक है। स्वामीजी के पत्रव्यवहार की खोज, उनकी उपलब्धि एवं सम्पादन कार्य में स्वामी श्रद्धानन्द, प्रसिद्ध वैदिक रिसर्च स्कालर पं. भवतद्दत्त, पं. युधिष्ठिर मीमांसक एवं श्री मामचन्द जी का विशेष योगदान रहा है। सम्प्रति स्वामीजी का समस्त पत्रव्यवहार चार खण्डों में पं. यधिष्ठिर मीमांसक के सम्पादन में प्रकाशित है जो रामलाल कपूर ट्रस्ट, रेवली, सोनीपत-हरयाणा से उपलब्ध है। इस पत्र व्यवहार का सम्प्रति दूसरा संस्करण ट्रस्ट से उपलब्ध हैं। स्वामी दयानन्द इतिहास में पहले व्यक्ति हैं जिन्होंने अहिन्दी भाषी होते हुए सर्वप्रथम अपनी आत्म-कथा हिन्दीं मे लिखी। सृष्टि के आरम्भ में सृष्टि के उत्पत्तिकर्ता ईश्वर से वेदों की उत्पत्ति हुई थी। स्वामी दयानन्द के समय तक वेदों का भाष्य- व्याख्यायें-प्रवचन-लेखन व शास्त्रार्थ आदि संस्कृत में ही होता आया था। स्वामीजी पहले व्यक्ति थे जिन्होंने वेदों का भाष्य संस्कृत के साथ-साथ जन-सामान्य की भाषा हिन्दी में भी करके सृष्टि के आरम्भ से जारी पद्धति को बदल दिया। न केवल वेदों का भाष्य अपितु अपने सभी सत्यार्थप्रकाश, ऋग्वेदादिभाष्य भूमिका, संस्कार विधि, आर्याभिविनय, व्यवहार भानु आदि ग्रन्थ हिन्दी में लिखे जो धार्मिक जगत के इतिहास की अन्यतम घटना है। हमें लगता कि देश के सभी राजनैतिक दलों एवं विद्वानों ने स्वामी दयानन्द के प्रति घोर पक्षपात का रवैया अपनाया है जिससे उनका पक्षपातरहित न्यायपूर्ण मूल्यांकन आज तक नहीं हो सका। प्राचीनतम धार्मिक साहित्य से सम्बन्धित यह घटना जहां वैदिक धर्म व संस्कृति की रक्षा से जुड़ी है वहीं भारत की एकता व अखण्डता से भी जुड़ी है। न केवल वेदों का ही अभूतपूर्व, सर्वोत्तम, सत्य व व्यवहारिक भाष्य उन्होंने हिन्दी में किया है अपितु मनुस्मृति एवं अन्य शास्त्रीय ग्रन्थों का अपनी पुस्तकों में उल्लेख करते समय उनके उद्धरणों के हिन्दी में अर्थ भी किए हैं। स्वामी दयानन्द के साथ ही उनके द्वारा स्थापित आर्य समाज एवं उनके अनुयायियों द्वारा स्थापित गुरूकुलों, डी.ए.वी. कालोजों, आश्रमों आदि द्वारा भी हिन्दी के प्रचार-प्रसार में उल्लेखनीय कार्य किया गया है। गुरूकुल कांगड़ी, हरिद्वार में देश में सर्वप्रथम विज्ञान, गणित सहित सभी विषयों की पुस्तकें हिन्दी में तैयार करायीं एवं उनका सफल अध्यापन हिन्दी माध्यम से किया। इस्लाम मजहब की पुस्तक कुरआन को प्रमाणिकता के साथ हिन्दी में सबसे पहले अनुदित कराने का श्रेय भी स्वामी दयानन्द जी को है। इसका प्रकाशन भी किया जा सकता था परन्तु किन्हीं कारणों से यह कार्य नहीं हो सका। यह अनुदित ग्रन्थ उनकी उत्तराधिकारिणी परोपकारिणी सभा के पुस्तकालय में आज भी सुरक्षित है।



ऋग्वेदादिभाष्य भूमिका ग्रन्थ में स्वामी दयानन्द जी ने लिखा है कि जो व्यक्ति जिस देशभाषा को पढ़ता है उसको उसी का संस्कार होता है। अंग्रेजी या अन्यदेशीय भाषा पढ़ा व्यक्ति सत्य, ज्ञान व विज्ञान पर आधारित विश्व वरणीय वैदिक संस्कृति से सर्वथा दूर देखा जाता है। इसके अतिरिक्त वह पाश्चात्य एवं अन्य वाममार्गी आदि जीवन शैलियों की ओर उन्मुख देखा जाता है जबकि इनमें मानवीय संवेदनाओं व मर्यादाओं का अभाव देखा जाता है। इसका उदाहरण इनमें पशुओं के प्रति दया भाव के स्थान पर उन्हें मारकर उनके मांस को भोजन में सम्मिलित किया गया है जो कि भारतीय वैदिक धर्म व संस्कृति के विरूद्ध है। अतः स्वामी जी का यह निष्कर्ष भी उचित है कि हिन्दी व संस्कृत के स्थान पर अन्य देशीय भाषाओं को पढ़ने से मनुष्य वैदिक संस्कारों के स्थान पर उन-उन देशों के संस्कारों से प्रभावित होता है।



एक षडयन्त्र के अन्तर्गत विष देकर दीपावली सन् 1883 के दिन स्वामी दयानन्द की जीवनलीला समाप्त कर दी गई। यदि स्वामीजी कुछ वर्ष और जीवित रहे होते तो हिन्दी को और अधिक समृद्ध करते और इसका व्यापक प्रचार करते। इससे हिन्दी भाषा का वर्तमान स्वरूप व विस्तार आज से कहीं अधिक उन्नत, सरल व सुबोध होता। लेख को निम्न पंक्तियों से विराम देते हैंः


‘‘कलम आज तू स्वामी दयानन्द की जय बोल,
  हिन्दी प्रेमी रत्न वह कैसे थे अनमोल।’’


लन्दन में 'जो चढ़ गए पुण्यवेदी पर' ....



लन्दन में 'जो चढ़ गए पुण्यवेदी पर' .... 
- कविता वाचक्नवी

प्रथम चित्र को बहुत ध्यान से देखिए। 
यह अमर शहीद ऊधम सिंह (26 दिसंबर 1899 - 31 जुलाई 1940) का चित्र है, जिनका आज बलिदान-दिवस है। 

यह चित्र लन्दन में लिया गया था। जलियाँवाला बाग हत्याकाण्ड का बदला लेने के लिए 13 मार्च 1940 को उन्होंने 10 कैक्स्टन हाल में सभा के मध्य मंच पर स्थित पंजाब के तत्कालीन (जलियाँवाला बाग काण्ड के समय) गवर्नर Michael O'Dwyer को सिर में दो गोलियाँ मार कर उसकी हत्या कर दी थी व पुलिस उन्हें गिरफ़्तार कर ले गई थी। अपनी गिरफ्तारी (और सुनिश्चित मृत्युदण्ड) के अवसर पर भी उनके चेहरे पर हँसी इस चित्र में साफ देखी जा सकती है;  जबकि तीन अंग्रेज़ अधिकारियों के मुख पर बहुत तनाव दीख रहा है। 


यहाँ पाठकों की जानकारी के लिए जोड़ना चाहूँगी कि गोलियाँ चलाने का आदेश देने वाला जनरल डायर (General Reginald Dyer)  था और जब यह हत्याकाण्ड हुआ था उस समय पंजाब के गवर्नर Michael O'Dwyer, ये दोनों अलग-अलग व्यक्ति थे। हिन्दी में दोनों के नाम का उच्चारण 'डायर' कर देते हैं, तो अब तक यह भ्रांति चली आई है कि उधम सिंह जी ने जनरल डायर को मारा था। जबकि उधम सिंह जी ने जलियाँवाला काण्ड के समय पंजाब के गवर्नर के रूप में आदेश देने वाले Michael O'Dwyer की हत्या की थी।

लन्दन के न्यायालय में अपने वक्तव्य में न्यायाधीश द्वारा पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि "मैंने उन्हें इसलिए मारा क्योंकि वे इसी योग्य थे और उनके साथ यही होना चाहिए था"। अतः 31 जुलाई 1940 को आज ही के दिन उन्हें लन्दन की Pentonville Prison में फाँसी दे दी गई। उसी जेल परिसर में उनका शव गाड़ दिया गया क्योंकि तब यहाँ भारतीय विधि से अन्तिम संस्कार की अनुमति नहीं थी। लम्बे अरसे बाद वर्ष 1974 में उनकी अस्थियाँ भारत लाई गईं ।

मेरे साथ यह सौभाग्य जुड़ा है कि वर्ष 1974 में जब उनकी अस्थियाँ भारत पहुँचीं थी, तब हमारे पिताजी मुझे व मेरे भाई को उनके दर्शन करवाने स्वयं ले गए थे। दूसरा सौभाग्य यह लन्दन में भारतीय क्रांतिकारियों व नायकों से जुड़े स्थलों के हमने स्वयं जाकर दर्शन किए हैं। अपनी उस चित्रावली से '10 कैक्स्टन हाल' (जहाँ उन्होने गोली चलाई थी) तथा 'Pentonville जेल' (जहाँ उन्हें फाँसी दी गई और जहाँ 1940 से 1974 तक उनका शव रखा था) पर जा निजी कैमरा से स्वयं लिए गए वे चित्र भी यहाँ दे रही हूँ -






10 कैक्स्टन हॉल, लन्दन ©KV

10 कैक्स्टन हॉल, लन्दन ©KV


10 कैक्स्टन हॉल, लन्दन ©KV


10 कैक्स्टन हॉल, लन्दन ©KV


10 कैक्स्टन हॉल, लन्दन ©KV


Pentonville जेल, लन्दन ©KV


Pentonville जेल, लन्दन ©KV

Pentonville जेल, लन्दन ©KV























Comments system

Disqus Shortname