"अक्ष्णोर्मे चक्षुरस्तु"

हिन्दी भारत

" - हिन्दी भारत - " (भारत व भारतीयता से जुड़े सभी साहित्यिक, सांस्कृतिक व सामाजिक प्रयासों, हिन्दी में रचनात्मक लेखन (विविध विधाएँ), भाषिक मंतव्यों, जीवनमूल्यों, पारस्परिक आदान-प्रदान की अभिवृद्धि हेतु) ***** हिन्दी भारत ***** "

वर्ष 2013 के प्रतिष्ठित 'केदार सम्मान' की घोषणा

 वर्ष 2013 के प्रतिष्ठित 'केदार सम्मान' की घोषणा 


वर्ष 2013 का प्रतिष्ठित 'केदार सम्मान' समकालीन हिन्दी कविता की चर्चित कवयित्री अनीता वर्मा को उनके कविता संकलन 'रोशनी के रास्ते पर' (2008, राजकमल प्रकाशन) के लिए प्रदान करने की घोषणा केदार शोध पीठ, बाँदा द्वारा की जाती है।

निर्णय की प्रशस्ति में कहा गया है कि - 

"अनीता वर्मा की कविता में हमारे समय की तमाम असंगतियों और त्रासदियों के बीच साधारण मनुष्य के अस्तित्व का एक अन्तरंग साक्षात्कार और उसकी मूल गरिमा को बचाए रखने की कशमकश बहुत प्रभावशाली ढंग से उभरी है। नारी मन के कोमल राग , उसके स्वप्न संसार और उसकी जीवन इच्छा को वे परिवेश की तमाम विडम्बनाओं, विवशताओं व विरोधाभासों के बीच बहुत कुशलता से रेखांकित करती हैं । एक अभिनव कल्पना शक्ति से उनकी काव्य उजास को बहुत ही विलक्षण ढंग से सँजोया है । यह कविता संकलन समकालीन हिन्दी कविता के परिदृश्य में अपनी एक विशिष्ट उपस्थिति दर्ज कराता है। "

यह सारे काव्य वैशिष्ट्य केदार नाथ अग्रवाल के निकट ठहराते हैं।

इस चर्चित एवं महत्वपूर्ण सम्मान के निर्णायकों में प्रो. मैनेजर पाण्डेय, श्री विभूति नारायण राय, श्री राजेश जोशी, श्री विजय कुमार एवं श्री भारत भारद्वाज हैं। इस से पूर्व 'केदार सम्मान' से 17 समकालीन हिन्दी कविता के कवियों को सम्मानित किया जा चुका है।

 - नरेन्द्र पुण्डरीक
(संयोजक) 
- संतोष भदौरिया 
(सह संयोजक)
- डॉ. कविता वाचक्नवी
(सदस्य : कार्यकारिणी )




2 comments:

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Related Posts with Thumbnails