प्रविष्टियाँ आमंत्रित : ‘केदार सम्मान’ व कृष्ण प्रताप कथा सम्मान वर्ष -2012




‘केदार सम्मान’ 


समकालीन हिन्दी कविता के विशिष्ट सम्मान ‘केदार सम्मान’ वर्ष 2012 के लिए प्रकाशकों, रचनाकारों एवं उनके शुभचिन्तकों से 30 नवम्बर 2012 तक ( पिछले चार वर्षो तक प्रकाशित) कविता संकलनों की दो प्रतियाँ आमंत्रित की जाती है । 


वे रचनाकार इस सम्मान हेतु अपने कविता संकलन भेज सकतें हैं जिनकी कविता की प्रकृति जनकवि केदारनाथ अग्रवाल की परम्परा में प्रकृति एवं मानव मन के जुड़ावों के साथ, आदमी के श्रम एवं संघर्षों में वैज्ञानिक चेतना के हिमायती हो और जिनका जन्म 15 अगस्त 1947 के बाद हुआ हो। 


इस विशिष्ट सम्मान से अब तक समकालीन हिन्दी कविता के इन रचनाकारों को सम्मानित किया जा चुका है - नासिर अहमद सिकन्दर, एकांत श्रीवास्तव , कुमार अंबुज, विनोद दास, गगनगिल, हरीश चन्द्र पाण्डे, अनिल कुमार सिंह, हेमन्त कुकरेती, नीलेश रघुवंशी, आशुतोष दुबे, बद्री नारायण, अनामिका, दिनेश कुमार शुक्ल ,अष्टभुजा शुक्ल, पंकज राग, पवन करण ।
                                                             नरेन्द्र पुण्डरीक
संयोजक :  केदार सम्मान 
 सचिव : केदार शोध पीठ


                                                                                                                              
   कृष्ण प्रताप कथा सम्मान वर्ष -2012


    समकालीन हिन्दी कहानी के विशिष्ट सम्मान ‘‘कृष्ण प्रताप कथा सम्मान वर्ष 2012’’ के लिए समकालीन कहानीकारों, प्रकाशकों एवं उनके शुभचिन्तकों से पिछले तीन वर्ष में प्रकाशित कहानी संग्रहों की दो प्रतियाँ आमंत्रित की जाती हैं । अब तक इस विशिष्ट कथा सम्मान से कथाकार बन्दना राग को उनके कहानी संग्रह ‘युटोपिया’ एवं मनीषा कुलश्रेष्ठ को उनके कहानी संग्रह ‘केअर आफ स्वात घाटी’ के लिए सम्मानित किया जा चुका है। प्रविष्टियाँ 31 दिस0 2012 तब आमंत्रित हैं। 

नरेन्द्र पुण्डरीक 
संयोजकः कृष्ण प्रताप कथा सम्मान 
एवं 
सचिवः केदार शोध पीठ, न्यास, बाँदा 
मोबाइल - 09450169568.

1 comment:

  1. आयोजकों को शुभकामना. श्रेष्ठ साहित्यिक प्रतिभाओं की खोज एक उत्कृष्ट साहित्यिक कदम है, जिसके लिये आप प्रशंसा की अधिकारी हैं.

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Comments system

Disqus Shortname