************************************* QR code of mobile preview of your blog Page copy protected    against web site content infringement by CopyscapeCreative Commons License
-------------------------

Subscribe to Hindi-Bharat by Email

आवागमन/उपस्थिति


View My Stats

`ओबामा का अमेरिका ' का आँखों देखा हाल

`ओबामा का अमेरिका ' का आँखों देखा हाल
डॉ.  वेदप्रताप  वैदिक






पिछले दो साल में मेरी यह चौथी अमेरिका यात्रा है। इस यात्रा में अमेरिका का जो हाल देख रहा हूँ, उसे देखकर दुख होता है। मुझे लगता था कि बराक ओबामा के राष्ट्रपति बन जाने पर अमेरिका के दिन फिरेंगे। बुश की गल्तियाँ सुधारी जाएँगी, आम आदमी की जिंदगी बेहतर हो जाएगी, एराक और अफगानिस्तान से अमेरिका को निकल भागने का रास्ता मिल जाएगा और लुढ़कता हुआ डॉलर जल्दी ही किसी मुकाम पर जाकर टिक जाएगा लेकिन डॉलर तो डॉलर पिछले 11 माह में खुद ओबामा ही लुढ़कने लगे हैं।



अमेरिका तो लोकमत-संग्रह का देश है। बात-बात में यहाँ लोगों की राय जानने की कोशिश की जाती है। ओबामा के 10 माह के शासन-काल पर जब जनता की राय माँगी गई तो मालूम पड़ा कि उनका स्वीकृति सूचकांक 70 से फिसलकर 40 पर आ गया है। उनके समर्थक भी उनकी मज़ाक उड़ाने लगे हैं। आज एक विश्व सम्मेलन में जब ओबामा के एक अफसर ने कहा कि हमारी सरकार अभी अपने प्रारंभिक दौर में है तो एक विद्वान ने खड़े होकर पूछा कि यह प्रारंभिक दौर कब तक चलेगा ? सरकार का एक-चैथाई काल तो बिना कुछ किए-धरे बीत गया है। क्या शेष तीन साल भी वह इसी तरह बिता देगी ?


यदि सत्तारूढ़ होने के बाद ओबामा ने फुर्ती से काम किया होता और फटाफट निर्णय लिये होते तो वे न्यू जेरेसी और वर्जीनिया में क्यों हारते ? गवर्नरों के इन उप-चुनावों में वे स्वयं आठ बार अभियान पर गए लेकिन उनकी डेमोक्रेटिक पार्टी के उम्मीदवार हार गए। इन उम्मीदवारों की हार-जीत के कारण स्थानीय होते ही हैं लेकिन रायशुमारी करनेवालों का कहना है कि ओबामा भी एक कारण थे। ओबामा ने आर्थिक सुधार के लिए 787 बिलियन डॉलर की सहायता की जो योजना बनाई थी, वह बेअसर साबित हो रही है। अमेरिका की बड़ी-बड़ी कंपनियां यह मोटी राशि डकार गई हैं लेकिन वे अभी तक अपने पाँव पर खड़ी नहीं हो सकी हैं। बेरोजगारी घटने की बजाय लगातार बढ़ती चली जा रही है। इस समय बेकारी की दर 10.2 प्रतिशत हो गई है याने हर दसवाँ अमेरिकी बेरोज़गार हो गया है। अमेरिका में बेरोज़गार होने से बड़ा कोई अभिशाप नहीं है। यहाँ हर चीज़ किश्तों पर खरीदी जाती है। यदि आप बेरोजगार हैं तो किश्तें कैसे चुकाएँगे ? याने आपको अपना घर खाली करना पड़ेगा, कार वापस करनी होगी और खाने-पीने के लिए भी तरसना होगा। कुछ अमेरिकी मित्रों ने मुझे बताया कि उन्होंने अपने घर खाली किए तो वे अपनी कारों में ही सोते रहे। बेरोजगार परिवारों के लोग चर्च या सदाब्रतों द्वारा लगाए गए मुफ्त खाने के पंडालों में पहुंचने के लिए मजबूर हो गए हैं। कुछ लोग एक-एक करके अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के घर रहे हैं। यह स्थिति यहाँ मरने से भी ज्यादा बुरी मानी जाती है, क्योंकि अमेरिका की दोस्तियों और रिश्तेदारियों में वह गहराई नहीं होती, जो भारत में होती है।



पिछले एक साल में लगभग 50 लाख लोगों ने अपना बेरोजगारी भत्ता पूरा कर लिया है। अब उन्हें नई या पुरानी नौकरियाँ लेते समय लगभग आधी तनखा पर काम करना होता है। अमेरिका के वेतनभोगी लोग अपनी सारी आमदनी खर्च करने के आदी होते हैं। उनके पास बचत कुछ भी नहीं होती बल्कि हर व्यक्ति कर्ज़दार ही होता है। ऐसी हालत में आधी तनखा पर गुजारा करना आधा जीवन जीने के बराबर हो जाता है। व्यापारिक संस्थानों की बात जाने दीजिए, अमेरिका की 250 बड़ी लॉ कंपनियों ने 5000 से भी ज्यादा वकीलों को हटा दिया है। जो काम कर रहे हैं, उनकी तनखा भी घटा दी गई है। यों तो अमेरिकी विश्वविद्यालयों पर मंदी का ज्यादा असर नहीं पड़ा है लेकिन कई प्रोफेसरों को वेतन-कटौती बर्दाश्त करनी पड़ रही है। छोटे-मोटे कई अखबार बंद हो रहे हैं और टी.वी. चैनलों के प्रसिद्ध एंकरों की आय भी घटाई जा रही है। लोगों की आय कम हो जाए और ऊपर से मंहगाई की मार पड़े तो हाल क्या होगा, यह बताने की जरूरत नहीं है। अमेरिका-जैसे मालदार देशों में प्रायः मंहगाई डेढ़-दो प्रतिशत ही बढ़ती है लेकिन पिछले साल वह 3.8 प्रतिशत तक पहुँच गई थी और इस साल आशंका है कि वह चार प्रतिशत का आंकड़ा लाँघ जाएगी। यों तो अमेरिका में खाने-पीने की चीज़ें सस्ती होती हैं लेकिन इस बार उन्हें खरीदते समय कीमतों पर ज्यादा ध्यान अपने आप जाने लगा है। विस्कोन्सिन एवेन्यू पर नॅशनल केथिड्रल के सामने जिस फ्लेट में मैं अपनी बेटी के साथ रुका हुआ हूँ, वहाँ अनेक फ्लेट खाली पड़े हुए हैं। किरायेदार नहीं मिल रहे हैं। लोग अब सस्ते किरायेवाले फ्लेट ढूँढ रहे हैं। मकानों की क़ीमतों में जर्बदस्त गिरावट हुई है। जिन्होंने अपनी आर्थिक सुरक्षा की दृष्टि से दो-दो मकान खरीद लिये थे, वे अब झींक रहे हैं। उन्हें किरायेदार नहीं मिल रहे हैं और क़िस्तें बोझ बन गई हैं। मकानों को खरीदनेवाले नहीं मिल रहे है और अगर मिलते हैं तो वे उन्हें मिट्टी के भाव खरीदना चाहते हैं। लगभग 15 लाख मकान खाली हो गए हैं और 85 लाख मकान ऐसे हैं, जिनकी मूल कीमत के मुकाबले आज की क़ीमत बहुत कम रह गई है।



ओबामा सरकार की आर्थिक नीतियों में फुगावा तो काफी है लेकिन उनके परिणाम सामने नहीं आ रहे हैं। वे बन गई हैं, पेड़ खजूर, जिसके फल लागे अति दूर ! अफगानिस्तान या एराक़ में अगर ओबामा कुछ चमत्कार कर दिखाते तो लोगों को ध्यान बँट जाता। उनकी छवि कुछ चमक जाती। लेकिन अभी तक ओबामा यही तय नहीं कर पा रहे हैं कि अफगानिस्तान में सैनिक भेंजे या नहीं और भेजें तो क्यों भेजें, कितने भेजें ? उनके विशेष दूत रिचर्ड होलब्रुक की गाड़ी बिल्कुल ठप्प हो गई है। अफगानिस्तान में हर माह 10 बिलियन डॉलर से ज्यादा खर्च हो रहा है। गरीबी में आटा गीला ! जितने अमेरिकी जवान इस साल मारे गए हैं, पहले कभी नहीं मारे गए। फोर्टहुड के सैन्य मुख्यालय में मारे गए 13 अमेरिकियों के बलिदान ने सारे अमेरिका का दिल दहला दिया है। मेजर निदाल मलिक हसन ने कहा है कि उसने हत्याकांड इसलिए किया है कि फौज के अमेरिकी मुसलमानों को मजबूर किया जाता है कि वे मुस्लिम देशों में जाकर अपने मुसलमान भाइयों को मारें। उधर अफगान राष्ट्रपति हामिद करज़ई खुले-आम कह रहे हैं कि अमेरिका अफगानिस्तान में अफगानिस्तान के भले के लिए नहीं आया है, वह सिर्फ अल-क़ायदा से लड़ने के लिए आया है। 



अब ओबामा क्या करे ?





















वेदप्रताप वैदिक
13.11.2009 (वाशिंगटन डी.सी. से)
`ओबामा का अमेरिका ' का आँखों देखा हाल `ओबामा का अमेरिका ' का आँखों  देखा हाल Reviewed by Kavita Vachaknavee on Tuesday, November 17, 2009 Rating: 5

4 comments:

  1. जिस नेता को गिरती अर्थव्यवस्था सत्ता में मिली हो, उसे क्या एक साल में सुधारने के लिए काफ़ी होगा और वह भी विश्व की सबसे मज़बूत व्यव्स्था चरमराया जाय तो.....शायद कुछ और समय तो लगेगा ही।

    ReplyDelete
  2. असाधारण शक्ति का गद्य

    ReplyDelete
  3. झुठे सपने दिखा कर सत्ता तक तो पहुच जाते है लेकिन जब हकीकत का सामना होता है तो ताश के पत्तो की तरह बिखर जाते है . मैने तो पहले ही लिखा है ओबामा अमरीका के सबसे खराब राष्ट्रपतियो मे से एक गिने जायेंगे

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Powered by Blogger.