तब यह धोखा कैसे सम्भव है ?

मौलिक विज्ञान लेखन







झूम रहे थे जुगनू नाना
विश्वमोहन तिवारी, एयर वाइस मार्शल, (से.नि.)  



जुगनू का नाम लेते ही मन में एक खुशी की लहर दौड़ जाती है। बरसात की नहाई संध्या की इन्द्रधनुषी मुस्कान याद आ जाती है। वर्षा ऋतु में तारों की आँख मिचौनी याद आ जाती है। आकाश के तारों की जगमग को भी हराने वाले जमीन पर जगमगाते जुगनू, और उन जुगनुओं के पीछे भागता बचपन याद आ जाता है।


भ्रमर तथा जुगनू के परिवारों में गहरा सम्बंध है। भ्रमर यदि गान के लिये प्रसिद्ध हैं तो जुगनू अपने मोहक हरे रंग के जगमग करते प्रकाश के लिये। गुनगुनाते भ्रमर कवियों के बहुत प्रिय रहे हैं। भ्रमरों से सम्बंधित उच्चकोटि की कविताएँ बहुत मिलेंगी। किन्तु जुगनुओं पर - बहुत ढूँढ़ने पर शायद कहीं कोई कविता मिल जाए। मुझे महाकवि सुमित्रानंदन पंत की एक कविता ‘प्रथम रश्मि’ में जुगनू का सुंदर उपयोग मिला:-

प्रथम रश्मि का आना रंगिणि
                            तूने कैसे पहचाना !
कहाँ कहाँ हे बालविहंगिनि
                            पाया तूने यह गाना !
सोई थी तू स्वप्न नीड़ में
                            पंखों के सुख में छुपकर
झूम रहे थे, धूम द्वार पर
                            प्रहरी से जुगनू नाना।


देखिये बाल पंछी के प्रति प्रेम दर्शाने के लिये पंत ने जुगनुओं को रात्रि में उनका प्रहरी बना दिया ! कितनी अच्छी उपमा है - नाना जुगनू प्रहरी के समान रात्रि में ज्योति हिलाते हुए पहरा देते हैं।

जुगनू को लेकर एक दोहा बहुत प्रसिद्ध है -

‘सूर सूर तुलसी ससी, उड्गण केशव दास
बाकी के खद्योत सम, जहं तहं करत प्रकास’

इस दोहे में जुगनू को सम्मान नहीं दिया गया। जबकि भ्रमर का सम्मान दिखलाने के लिये एक ही उदाहरण पर्याप्त होगा, सूरदास की तो बात ही छोड़ दें, महादेवी वर्मा की कविता की एक पंक्ति ही देखिए -

 ‘विश्व का क्रंदन भुला देगी मधुप की मधुर गुन गुन।’

भ्रमर तथा जुगनू में समानताएँ देखने लायक हैं। दानों ही कीट हैं, दोनों के चार चार पंख होते हैं। किन्ही किन्ही जाति की मादा जुगनू के पंख नहीं होते इसलिये अंग्रेजी में उन्हे ‘फायर फ्लाई’ न कहकर ‘ग्लो वर्म’ कहते हैं। इन दोनों परिवारों के सामने के दो पंख कड़े होते हैं जिनसे उड़ने का काम नहीं लिया जा सकता। हाँ उड़ान वाले पंखों तथा पूरे शरीर की रक्षा करने का काम ये कड़े पंख करते हैं। अतएव इन्हे ‘कवच पंख’ कहते हैं, तथा ऐसे कीटों को ‘कवच-पंखी’ कीट कहते हैं।


जुगनू अथवा खद्योत अद्भुत कीट है। यह पूर्णतया निशिचर कीट है। खद्योत कीटों की लगभग 1000 जातियाँ हैं जो विश्व के भूमध्यरैखिक तथा समशीतोष्ण क्षेत्रों को प्रकाशित करती हैं। खद्योत कीट के नर तथा मादा दोनों उड़ते हैं। इनका मुख्य भोजन पराग, मकरंद हैं। किन्तु जब ये इल्ली अवस्था में होते हैं तब ये घोंघे (स्नेल) तथा शंबुक (स्लग) को आहार बनाते हैं। इनमें ये एक ऐसा द्रव, डाक्टर की सुई समान, अपने मुख की सुई जैसी नलिका से डाल देते हैं कि वह मरने लगता है। थोड़ी ही देर में उस द्रव द्वारा शिकार का आधा पचा हुआ भोजन उस नलिका से खींच लेते हैं। और मजे की बात यह भी है कि ये जुगनू इल्ली अवस्था में भी जगमग करने लगते हैं। और ये खद्योत तथा उनकी इल्लियाँ क्यों ऐसा करते हैं ? सम्भवतः, मेंढक, साँप, पक्षी जैसे शिकारियों को अपने कड़ुए स्वाद से आगाह करना चाहते हैं। और देखिए, मेढकों की कुछ जातियों ने इनके कड़ुएपन का इलाज कर लिया है, और वे मजे से रात में जगमगाते इन अपने को सुरक्षित समझने वालों को इतना तक खा लेते हैं कि वे स्वयं जगमगाने लगते हैं - एक जगमगाता मेंढक देखते ही अचम्भा हो।


जुगनुओं को अंग्रेजी में ‘फायर फ्लाई’ कहते हैं। इनका प्रकाश आग या गरमी के कारण नहीं निकलता जैसा कि कागज या लकड़ी के जलने पर निकलता है। इनके प्रकाश विकिरण की क्रिया ‘जैव-द्युति’ होती है। अर्थात वह अजैव रासायनिक प्रक्रियाओं से भिन्न होती है।


इस जैव प्रक्रिया के लिये इनमें एक विशेष प्रकिण्व (एन्ज़ाइम) भाग लेते हैं जिसमें आक्सीजन का उपयोग रहता है। हमारे शरीर की पाचन क्रिया में भी प्रकिण्वों का बहुत महत्त्व है। इनकी यह क्रिया ‘ट्यूब-लाइट’ के समान नहीं होती, किंतु इनका प्रकाश उसी के समान ठंडा रहता है। प्रयोगशालाओं में तथा उद्योगों में इस तरह के प्रकाश विकिरक पदार्थों का अजैव - रासायनिक - प्रक्रियाओं द्वारा उत्पादन किया जा रहा है। आश्चर्यजनक बात यह है कि कृत्रिम विधियों की दक्षता प्राकृतिक विधियों की दक्षता की तुलना में बहुत कम है।


जुगनू अपना शीतल प्रकाश किस तरह पैदा करते हैं यह समझने के बाद यह प्रश्न उठता है कि वे क्यों ऐसा करते हैं ! ये कीट अपने स्वभाव से निशाचर हैं क्योंकि रात में शिकारी पक्षियों, मेंढकों, तथा अन्य कीटों के हमले का खतरा बहुत कम हो जाता है। किन्तु रात्रि में जीवन बिताने में अनेक समस्याएं भी होती हैं। प्रजनन के लिये नर तथा मादा का मिलना अनिवार्य है। और इनकी संख्या वातावरण की विशालता को देखते हुए कम ही है। फलस्वरूप, नर और मादा अँधेरे में एक दूसरे को कैसे ढूँढें ? कैसे अपनी ही जाति की पहचान करें ? इसलिए विकास के दौरान इन कीटों में प्रकाश का उपयोग आया। भिन्न जातियों के जीव मिलकर सन्तान नहीं पैदा कर सकते जैसे कि सिंह तथा शेरनी मिलकर सन्तान नहीं पैदा कर सकते और यदि ऐसी संतान हो भी जाए तो वह आगे संतान उत्पन्न नहीं कर सकती। उसी तरह एक जाति का जुगनू नर दूसरी जाति के मादा जुगनू से संतान नहीं पैदा कर सकता। एक जाति की जुगनू से दूसरी जाति की जुगनू के प्रकाश में किस तरह भिन्नता लाई जाये ? मजे की बात है कि इसके लिये जुगनू के पास चार ही विधियाँ हो सकती हैं। 
             
 पहली - हर एक जाति की जुगनू के रंग अलग हों।
 दूसरी - एक जाति का जुगनू अपनी द्युति की ‘जल - बुझ’ की आवृत्ति अन्य से अलग रखे।
 तीसरी - इस आवृत्ति में द्युतिमान रहने की अर्थात ‘द्युतिकाल’ अवधि  भी अलग रखे। और
 चौथी - मादा जब अपनी जाति के नर के प्रकाश-संकेत को पहचानने के बाद स्वयं का संकेत भेजे तब, एक, उसके संकेत भी उपरोक्त तीनों प्रकार से अन्य जाति की मादाओं के संकेतों से भिन्न होते हैं, साथ ही वह नर के संकेत का उत्तर देने में जो विलम्ब करती है, उस विलम्ब की मात्रा भी अन्य जातियों द्वारा रखे गये विलम्ब की मात्रा से भिन्न रखी जाती है। बहुत कम जीवधारियों में ये रंग अलग अलग होते हैं, किन्तु रंगों को हजारों प्रकार के बनाना और समझना अधिक कठिन काम है। इसीलिये प्रकाश के जगमगाने (जल-बुझने) की आवृत्ति भिन्न जातियों की भिन्न होती है, किन्तु यह भी हजारों जातियों को अलग अलग पहचान देने में कठिनाई पैदा करती है। रात के अँधेरे में खद्योतों की प्रत्येक जाति अपनी प्रकाश के ‘जल-बुझने’ की आवृति तथा द्युतिकाल की अवधि को और उत्तर के विलम्ब की मात्रा को अच्छी तरह समझती है और अन्य जातियों से भेद कर सकती है।


प्रकृति में नर की उपादयेता मादा से, अक्सर कम होती है। इसलिये ‘नर’ अधिक खतरा मोल ले सकता है। इसीलिये नर पक्षी मादा पक्षी से अक्सर, अधिक तथा चटखदार रंगों वाले होते हैं। जुगनुओं में भी नर जब मादा की खोज में रात के अँधेरे में निकलता है तो उसका जगमगाना बराबर चलता रहता  है। जब कि मादा जुगनू किसी घास पर या छोटी झाड़ी की फुनगी पर ‘चुपचाप’ बैठी देखती रहती है। ज्योंही उसे अपनी ही जाति के नर का द्युति संकेत दिखता है तब वह उत्तर में अपने प्रकाश संकेत का जगमगाना प्रारम्भ करती है। मादा की द्युति की आवृत्ति तथा द्युति-काल भी नर से भिन्न होता है किन्तु एक जाति की मादा का निश्चित होता है। नर उस मादा के उत्तर के द्युति संकेत को पहचानकर उसके पास आ जाता है। इतने छोटे से कीट के कितने अद्भुत व्यवहार !


न केवल नर खद्योत अधिक खतरा लेने के लिये तैयार रहता है, उसे मालूम हे कि उसका जीवन बहुत अल्प है, कोई एक दो रातें ! इसलिये उसे संतानोत्पत्ति के कार्य के अतिरिक्त कोई कार्य नहीं सूझता। यहाँ तक कि अनेक खद्योत जातियों के नर भोजन ही नहीं करते, केवल मादाएँ भोजन करती हैं। यहाँ तक कि कुछ मादाएँ दूसरी जाति के खद्योत नरों को धोखा देकर अपने पास बुला लेती हैं और खा जाती हैं। जब हर एक जाति के प्रकाश संकेत निश्चित रूप से तथा जटिल रूप से भिन्न होते हें, तब यह धोखा कैसे सम्भव है ?


‘फोट्युरिस’ वंश की मादा खद्योत भिन्न वंश की ‘फोटिनुस’ वंश की मादा की आवृत्ति, द्युति-काल तथा विलम्ब पैदा कर सकती है। जब उसे भूख लगी होती है और उस समय यदि कोई फ़ोटिनुस जाति का नर अपना द्युति संकेत करता हुआ निकलता है तब वह फोटिनुस मादा का द्युति संकेत पैदा करती है। फोटिनुस नर तुरन्त खिंचा आता है। और उसके आते ही वह मादा उस भोले भाले नर को अचानक धर दबोचती है। यह धर दबोचना संभव हो सकता है क्योंकि नर जब मादा के पास आता है तब अपनी जाति की पहचान को अंतिम बार सुनिश्चित करने के लिये उसे सूँघता है। उनकी सुगंध भी जाति -विशेष होती है, अर्थात प्रत्येक जाति की अपनी सुगंध होती है। इस सूंघने की प्रक्रिया के समय धोखेबाज तथा तैयार मादा उस कामातुर नर को खा जाती है। प्रकृति में ‘जीवः जीवस्य भोजनम्’ एक सामान्य नियम है जिसके अनुसार एक जीव, यथा बाघ, अन्य जीव, यथा हिरन, को अपना आहार बनाता है। ऐसा समझकर हम इस बहुत अजीब घटना पर आश्चर्य प्रकट करने के बाद छोड़ सकते हैं किन्तु वैज्ञानिक नहीं छोड़ता। वह जानना चाहता है कि इस एक जीव, यथा फोट्यूरिस मादा खद्योत, ने फ़ोटिनुस नर खद्योत को ही क्यों भोजन बनाया ? अपने पराग तथा मकरन्द के सामान्य आहार से वह संतुष्ट क्यों नहीं हुई ? यह जो धोखा दिया वह आहार के लिए दिया गया है ; किसी शिकारी से अपने को बचाने के लिए दिया गया धोखा नहीं है। तितली की कुछ जातियाँ, यथा ‘दानाउस प्लैक्सिप्पुस’ अपना बचाव करने के लिए जहरीली होती हैं। और कुछ जातियाँ जो जहरीली नहीं होतीं, यथा ‘लिमेनितिस आर्किप्पुस’, वे रंग रूप में जहरीली जातियों (यथा, दानाउस प्लैक्सिप्पुस) के यथेष्ठ समरूप हो जाती हैं और शिकारी पक्षी उन निर्विष तितलियों को विषैली समझकर छोड़ देते हैं। यह समरूपता द्वारा दिया गया धोखा अपने बचाव के लिए दिया गया है। इस धोखे में दोनों शिकारी और शिकार को लाभ होता है। किंतु मादा फोट्युरिस खद्योत, लगता है, कि मात्र अपने स्वार्थ के लिए धोखा दे रही है। जब बाघ किसी मृग का शिकार करता है तब अधिकतर वह कमजोर मृगों को ही पकड़ता है। इससे और दुर्बल मृगों की छटनी हो जाती है और मृगों में मृगों की अतिजीविता बढ़ती है। और यहाँ इस तरह का कोई लाभ फोटिनुस वंश के खद्योतों को होता नज़र नहीं आता। तब ?


फोटिनुस वंश के खद्योतों ने इस धोखे से अपने बचाव के लिए क्यों कोई प्रतिकार पैदा नहीं किया? शायद, फोेट्युरिस खद्योत की मादाएँ बहुत कम ऐसा धोखा करती हों। क्यों ? खद्योतों तथा उनकी इल्लियों का स्वाद बहुत कड़ुआ होता है, जिसके फलस्वरूप मेंढक, साँप तथा पक्षी उन्हें नहीं खाते। बाल स्वाद के कड़ुएपन की नहीं है, बात उनके विषैला होने की है। ये उन खद्योतों तथा इल्लियों को उनके विषैलेपन के कारण नहीं खाते। स्वाद नवसिखिये शिकारियों को मदद करता है। कड़ुआ स्वाद आते ही वे अपने पिछले अनुभव के आधार पर कड़ुए शिकार को तुरंत थूक देते हैं। न थूकें तो उन्हें कै हो सकती है, बेहोशी हो सकती है और अधिक मात्रा में खाने पर मृत्यु भी। इसलिए वयस्क शिकारी ऐसे जगमगाते खद्योतों तथा इल्लियों को देखते ही छोड़ देते हैं।


ऐसा विष खद्योतों को अपने भोजन से ही मिलता है। इस विष का नाम है ‘ल्युसिबुफाजिन्स’ (लातिन में इसका अर्थ है ‘हल्का भेक’ या ‘हल्का टोड’, क्योंकि यही विष कुछ ‘भेक’ की जातियों में पाया जाता है।) ‘फोटिनुस’ वंश के वयस्क मादाओं में भी हमेशा मिलता है, किन्तु किशोर मादाओं में नहीं मिलता। वैज्ञानिकों ने प्रयोग कर यह देखा कि उन फोट्युरिस मादाओं को जिन्होंने कभी फोटिनुस खद्योतों को नहीं खाया, मकड़ियों ने मजे से खाया। किंतु जब भी उन मकड़ियों ने ऐसी फोट्युरिस मादाओं को जिन्होंने कभी भी फोटिनुस खद्योतों को खाया था या जिन्हें ‘ल्युसिबुफाजिन्स’ खिलाया गया था, मुँह में पकड़ा, उसे उन्होंने तुरंत ही छोड़ दिया। और यह भी पता लगाया कि एक मादा फोट्युरिस खद्योत को एक फोटिनुस नर खद्योत की खुराक जीवन भर के लिए पर्याप्त है। अर्थात यह धोखा आहार के लिए नहीं किया गया था, वरन एक रक्षात्मक विष की जीवनभर की आवश्यकता के लिए जीवन में एक बार किया गया था।


नर तथा मादा खद्योत अपनी द्युतियों पर कुछ नियंत्रण तो कर ही सकते हैं। एक वृक्ष  में एक ही स्थान पर कुछ नर खद्योत हों तब अधिकांशतया वे एक साथ द्युति का ‘जलना-बुझना’ करते हैं - यह दृश्य बहुत मनोहर लगता है। यदि एक सीध में कुछ वृक्ष हों और उन वृक्षों पर एक ही जाति के जुगनू हों, तब तो और भी मनोहर दृश्य प्रस्तुत होते हैं। सारे जुगनू एक वृक्ष के बाद दूसरे फिर तीसरे से अपनी द्युति बारी बारी से आलोकित करते हैं - लगता है मानो प्रकाश की लहर जा रही हो। कभी कभी एक ही वृक्ष पर ऊपर तथा नीचे दो झुण्ड बारी बारी से द्युति पैदा करते हैं। जुगनुओं की नाना द्युतियों को देखकर लगता है कि प्रकृति दीपावली मना रही है। कुछ अपवादों के साथ, खद्योत हरे रंग की द्युति ही बिखेरते हैं।


खद्योत हैं तो कीट, और इनका; परिवारद्ध कुल है भृन्गों का ‘लाम्पाइरिदी’ जो ‘कोलेऔप्टेरा’ गण का सदस्य है। ये भूमध्यरैखिक तथा समशीतोष्ण जलवायु वाले क्षेत्रों को ही जगमगाते हैं। इनके पंख कड़े होते हैं किन्तु उदर नरम। उदर में ही इनका हरा जगमगाने वाला ‘बल्ब’ लगा रहता है। इनकी लंबाई कम ही होती है 5 से 25 मिलि मीटर तक। इनका ऊपर के शरीर का रंग अधिकांशतया प्रगाढ़ कत्थई या काला होता है जिस पर पीला या नारंगी चेतावनी देने वाला निशान रहता है।


प्रकृति में केवल जुगनू ही ऐसे जीव नहीं हैं जो द्युति उत्पन्न करते हैं। ऐसे अन्य जीव हैं जैसे कुछ मछलियों की जातियां, ‘नॉक्टिलुका’ नामक आदि जंतु (प्रोटोज़ोअन), कवक (फंगस), मक्खियाँ, कनखजूरे; कवचधारी जंतु में जुगनुओं के अतिरिक्त क्लिक बीटल आदि भी प्रकाश उत्पन्न करते हैं। एक ऐसा जीव तो रात के अंधेरे में देखने पर लगता है मानो एक एंजिन लाल बत्ती लिये रेलगाड़ी लेकर चला आ रहा हो - ऐसे कीट का नाम हे रेल्वे कीट (रेल रोडवर्म) - इसके शरीर में दो लम्बी धारियों के रूप में प्रकाश उत्पन्न होता है तथा उसके सिर पर लाल प्रकाश।


वाल्मीकि रामायण में संजीवनी बूटी का वर्णन है। तथा यह भी कि वे बूटियाँ रात्रि में स्वयं की द्युति से चमकती हैं। अब आपको यह विश्वास तो हो जाएगा कि वाल्मीकि ऋषि को ऐसी द्युतिमान औषधियों के विषय में ज्ञान था, और वह किसी कवि की कोरी कल्पना नहीं थी।



5 comments:

  1. साहित्यिक अभिरूचि के साथ लिखा गया यह लेख न केवल रोचक है वरन हमारे ज्ञान को भी बढाता है........सार्थक व सशक्त और उपयोगी लेख हेतु बधाई।

    ReplyDelete
  2. जुगनू के बारे में काफी विस्‍तार से जानकारी मिली ..

    ReplyDelete
  3. रोचक और जानकारी पूर्ण आलेख!

    ReplyDelete
  4. साथियो, आभार !!
    आप अब लोक के स्वर हमज़बान[http://hamzabaan.feedcluster.com/] के /की सदस्य हो चुके/चुकी हैं.आप अपने ब्लॉग में इसका लिंक जोड़ कर सहयोग करें और ताज़े पोस्ट की झलक भी पायें.आप एम्बेड इन माय साईट आप्शन में जाकर ऐसा कर सकते/सकती हैं.हमें ख़ुशी होगी.

    स्नेहिल
    आपका
    शहरोज़

    ReplyDelete

आपकी सार्थक प्रतिक्रिया मूल्यवान् है। ऐसी सार्थक प्रतिक्रियाएँ लक्ष्य की पूर्णता में तो सहभागी होंगी ही,लेखकों को बल भी प्रदान करेंगी।। आभार!

Comments system

Disqus Shortname